Thursday, October 6, 2022
HomeEducationUgc's Plan: 25 Percent Extra Seats, No Entrance Test For Foreign Students...

Ugc’s Plan: 25 Percent Extra Seats, No Entrance Test For Foreign Students – यूजीसी की योजना: विदेशी छात्रों के लिए 25 फीसदी अतिरिक्त सीटें, प्रवेश परीक्षा भी नहीं होगी

सुनें

देश भर के विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों को अब अपने स्नातक (यूजी) और स्नातकोत्तर (पीजी) कार्यक्रमों में विदेशी छात्रों के लिए 25 प्रतिशत अतिरिक्त सीटें बनाने की अनुमति होगी, जबकि छात्रों को प्रवेश प्रक्रिया से गुजरने की आवश्यकता नहीं होगी। के अनुसार भारत में अंतरराष्ट्रीय छात्रों की संख्या बढ़ाने के लिए उपरोक्त कदम उठाने की योजना है।
अधिकारियों ने कहा कि इस संबंध में निर्णय पिछले सप्ताह विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की बैठक में भारत में यूजी और पीजी कार्यक्रमों के अंतरराष्ट्रीयकरण पर लिया गया था। अधिसंख्य सीटों को कुल स्वीकृत संख्या से अधिक बनाया जाएगा और इन सीटों के में निर्णय संबंधित उच्च शिक्षण संस्थानों (HEI) द्वारा बुनियादी ढांचे, संकाय और अन्य आवश्यकताओं पर विचार करते हुए नियामक निकायों द्वारा जारी विशिष्ट दिशा और विनियमों के अनुसार लिया जाएगा i

संबंधी मानदंड यूजीसी और अन्य नियामक करेंगे तय

के अध्यक्ष प्रोफेसर एम जगदीश कुमार ने बताया कि भारतीय उच्च शिक्षा संस्थान अंतरराष्ट्रीय छात्रों को उनके द्वारा धारित योग्यता की समानता के आधार पर प्रवेश दे सकते हैं। डिग्री योग्यता संबंधी के लिए समानता मानदंड यूजीसी या यूजीसी द्वारा मान्यता प्राप्त संबंधित नियामक निकायों द्वारा निर्धारित की जानी है। उच्च शिक्षण संस्थान (HOI) संस्थान स्नातक और स्नातकोत्तर कार्यक्रमों के लिए अपने कुल स्वीकृत नामांकन के अलावा अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए 25 प्रतिशत अतिरिक्त सीटें बना सकते हैं।

प्रक्रिया अपना सकते हैं उच्च शिक्षण संस्थान

यूजीसी प्रमुख ने कहा कि 25 प्रतिशत अतिरिक्त सीटों के संबंध में निर्णय संबंधित उच्च शिक्षण संस्थानों द्वारा बुनियादी ढांचे, संकाय और अन्य आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए नियामक निकायों द्वारा जारी विशिष्ट दिशा-निर्देशों / विनियमों के अनुसार किया जाना है। उच्च शिक्षण संस्थान (HEI) को पारदर्शी प्रवेश प्रक्रिया का उपयोग करके अंतरराष्ट्रीय छात्रों को प्रवेश देने की भी अनुमति होगी जैसा विश्वविद्यालयों द्वारा किया इन छात्रों लिए उपयोग की जाने वाली अन्य प्रक्रिया से नहीं गुजरना

See also  Ukraine Returnee Students Seek Continuation Of Medical Education In India As Per Lok Sabha Committee Recommendation; Supreme Court Issues Notice

2019 भारत पढ़ने आए थे 75 हजार से अधिक छात्र

अधिकारी ने समझाया कि पेशेवर और तकनीकी संस्थानों में अतिरिक्त सीटें संबंधित वैधानिक निकायों द्वारा शासित होंगी। प्रत्येक कार्यक्रम में अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए उपलब्ध सीटों की संख्या, उसी के लिए निर्धारित शुल्क, प्रवेश प्रक्रिया, पात्रता शर्तों आदि के बारे में सभी विवरण उच्च शिक्षण संस्थानों की वेबसाइट पर उपलब्ध कराए जाएंगे। रूप से स्नातक और स्नातकोत्तर दोनों कार्यक्रमों में अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए होंगी। बता दें कि विदेश मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, 2021 में कुल 23,439 विदेशी छात्र भारत आए थे। , महामारी से पहले के वर्षों में यह संख्या अधिक थी। 2019 में, उच्च शिक्षा के लिए 75,000 से अधिक अंतरराष्ट्रीय छात्र भारत आए थे।

विस्तार

देश भर के विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों को अब अपने स्नातक (यूजी) और स्नातकोत्तर (पीजी) कार्यक्रमों में विदेशी छात्रों के लिए 25 प्रतिशत अतिरिक्त सीटें बनाने की अनुमति होगी, जबकि छात्रों को प्रवेश प्रक्रिया से गुजरने की आवश्यकता नहीं होगी। के अनुसार भारत में अंतरराष्ट्रीय छात्रों की संख्या बढ़ाने के लिए उपरोक्त कदम उठाने की योजना है।

अधिकारियों ने कहा कि इस संबंध में निर्णय पिछले सप्ताह विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की बैठक में भारत में यूजी और पीजी कार्यक्रमों के अंतरराष्ट्रीयकरण पर लिया गया था। अधिसंख्य सीटों को कुल स्वीकृत संख्या से अधिक बनाया जाएगा और इन सीटों के में निर्णय संबंधित उच्च शिक्षण संस्थानों (HEI) द्वारा बुनियादी ढांचे, संकाय और अन्य आवश्यकताओं पर विचार करते हुए नियामक निकायों द्वारा जारी विशिष्ट दिशा और विनियमों के अनुसार लिया जाएगा i

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments