Monday, December 5, 2022
HomeEducationRSS Meeting Prayagraj: मातृभाषा में शिक्षा पर बल देगा संघ परिवार, बैठक...

RSS Meeting Prayagraj: मातृभाषा में शिक्षा पर बल देगा संघ परिवार, बैठक में उठेंगे आत्मनिर्भर भारत जैसे विषय

Amlendu TripathyPublication date: Fri 14 Oct 2022 17:41 (IST)Date Updated: Fri, Oct 14, 2022 5:41 PM (IST)

s राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की संगम नगरी में होने वाली अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों के मातृभाषा शिक्षा, जनसंख्या असंतुलन व नियंत्रण, महिला सशक्तीकरण व आत्मनिर्भर भारत जैसे विषयों पर भी विमर्श होना है। . मोहन भागवत के मार्गदर्शन में होने वाली बैठक में संघ परिवार व आनुषांगिक संगठनों की सशक्तता पर भी दिया जाएगा।

वर्ष में की जाने वाली बड़ी पहल का खाका इस बैठक में तैयार होगा

संघ अपनी स्थापना का शताब्दी वर्ष 2025 में मनाने जा रहा है। शताब्दी वर्ष में की जाने वाली बड़ी पहल का खाका भी इसी बैठक में मूर्त रूप ले सकता है। शाम तक गौहनिया स्थित वात्सल्य परिसर में सभी अखिल भारतीय स्तर के पदाधिकारी पहुंच चुके थे।

संख्या बढ़ाकर उनकी गतिविधि को भी बढ़ाने पर जोर

बैठकों में अलग अलग विषयों पर विमर्श भी किया गया। अधिकांश में शाखा विस्तार और स्वयंसेवकों की संख्या बढ़ाकर उनकी गतिविधि को भी बढ़ाने पर जोर देने का मसौदा तैयार हुआ। के सूत्रों के अनुसार मातृभाषा के विस्तार पर भी जोर दिया जा रहा है। यही वजह है कि आरएसएस के सभी आयोजनों में देशभर से एकत्र होने वाले पदाधिकारी व स्वयंसेवक अपना संबोधन हिंदी में देते हैं, भले ही वे गैर हिंदीभाषी क्षेत्र के हों।

पठन पाठन विशेष रूप से तकनीकी शिक्षा और उच्च शिक्षा मातृभाषा में देने के लिए भी अभियान छेड़ा जाएगा। स्थानीय सरकारों के साथ भी इस विषय पर विमर्श कर आम राय बनाने के लिए मसौदा तैयार होना है। इस बैठक में जनसंख्या असंतुलन व नियंत्रण को लेकर जागरूकता कार्यक्रम चलाने, स्वयंसेवकों को गांव गांव घर घर जाकर सजगता लाने संबंधी प्रस्ताव लाए जा सकते हैं।

See also  चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग बाल-बाल बचे; कार को डंपर ने टक्कर मारी | Medical Education Minister Vishwas Sarang narrowly escaped; dumper hit the car

से मांग की जा सकती है कि अलग अलग धर्म समुदाय और जातियों के बीच बढ़ रहे जनसंख्या असंतुलन को रोकने के लिए विशेष कानून लाए जाएं। सशक्तिकरण व आत्मनिर्भरता जैसे विषय पर समाज को साथ लेकर आगे बढ़ने पर भी विमर्श जरूर होगा।

पीढ़ी के कौशल विकास और रोजगार दिलाने में संगठन को अपनी भूमिका समाज के सक्षम लोगों के साथ मिलकर बढ़ाने की भी कार्ययोजना इस बड़ी बैठक में बन सकती है। इस दिशा में कुछ स्थानों पर कार्य भी हुआ है। के साथ विस्तारित योजना आ सकती है। में दुग्ध के क्षेत्र में महिला समूहों के साथ होने वाला कार्य इसी कार्यक्रम का हिस्सा है।

है हिंदुओं पर होने वाले हमलों का मुद्दा

की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में राजस्थान के उदयपुर और पश्चिम बंगाल में हिंदुओं पर की गई हिंसा का मुद्दा भी उठ सकता है। ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए संघ के स्वयंसेवक अपनी भूमिका भी सुनिश्चित करें, इस आग्रह के साथ प्रस्ताव भी आ सकता है। का मानना ​​​​ कि ऐसी घटनाओं के मूल में पूरा समाज नहीं होता। के लोग भी इस तरह की घटनाओं का विरोध करते हैं।

लेकर सकारात्मक वातावरण बनाने की जरूरत है। पर ही यह मुस्लिम समाज का स्वभाव बनेगा। एकता को मजबूत बनने का सशक्त माध्यम होगा। अपनी पहचान और परंपरा का पूरी तन्मयता से निर्वहन करना होगा। की विशिष्टता प्रेम, व शांति है।

निश्श्वार्थ सेवा सभी को मिल कर करनी होगी। एक दूसरे के सुख दुःख में परस्पर साथी बनें, भारत को जानें, भारत को मानें, भारत के बने, यही एकात्म, समरस राष्ट्र की कल्पना संघ करता है। और कोई उद्देश्य या स्वार्थ इसमें नहीं है।

See also  करोड़ों रु. से बने भवनों का 14 को उच्च शिक्षा मंत्री करेंगे लाेकार्पण | crores of rupees Higher Education Minister will inaugurate 14 of the buildings made of

Edited by: Ankur Tripathic

करें और रहे हर खबर से अपडेट

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments