Saturday, December 10, 2022
HomeBreaking NewsNoida Supertech Twin Towers Demolition 28 August, 10 Key Points

Noida Supertech Twin Towers Demolition 28 August, 10 Key Points

Supertech Twin Towers Demolition: 31 2021 को सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा के सेक्टर ए में बने भारत सबसे ऊंचे कंस्ट्रक्शन नोएडा ट्विन टावर्स (Twin Tower) को अवैध घोषित कर दिया. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने ये माना कि ट्विन बनाने में नियमों की अनदेखी हुई. अवैध घोषित किए जाने सुप्रीम कोर्ट के के तीन महीने बाद ही ट्विन टावर को गिराया जाना अब एक साल बाद जाकर तरीके से टावर को ध्वस्त दिया जाएगा.

कुतुबमीनार से ऊंची संरचना को कम से कम 3,700 किलोग्राम वजन के विस्फोटकों के नीचे लाया जाएगा. नोएडा ट्विन टॉवर से जुड़ी 10 बड़ी बातें हैं.

ट्विन टॉवर से जुड़ी 10 बड़ी बातें

  1. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अवैध सुपरटेक ट्विन टावर को 28 अगस्त, रविवार को गिरा दिया जाएगा. 40 मंजिला इमारत को रविवार की दोपहर 2.30 बजे विस्फोट कर गिराया जाएगा.
  2. ट्विन टावरों को गिराने के लिए 3500 किलोग्राम से ज्यादा विस्फोटक का इस्तेमाल किया जाएगा. को बड़ी तादाद में पुलिसकर्मी शहर की ओर ट्विन टावर के आसपास एक का घेरा बनाकर लॉ एंड ऑर्डर कि सुरक्षा करेंगे.
  3. आम लोगों को ट्विन टावर के आसपास बनी सड़कों पर एंट्री भी नहीं दी जाएगी. इतना ही नहीं शहर में जगह-जगह डाइवर्जन किया गया है और 5 सड़कों को पूरी तरह बंद भी किया गया है.
  4. टावर के ब्लास्ट वाले दिन महकमा भी पर मौजूद रहेगा. शहर के बड़े-बड़े अस्पतालों में सेफ हाउस बनाए हैं. अस्पताल, यथार्थ अस्पताल और जिला अस्पताल में यह सेफहाउस तैयार किए गए हैं.
  5. एंबुलेंस व्यवस्था की डॉ लाल दी , जेपी अस्पताल की जिम्मेदारी नोडल अधिकारी चंदा को गई है, डॉ भारत अस्पताल की जिम्मेदारी नोडल अधिकारी डॉ संभालेंगी.
  6. ट्विन टावर के विस्फोट से पहले यानी 28 अगस्त को एमराल्ड कोर्ट में बनी सोसाइटी के लोगों को सुबह 7:00 अपना घरों को खाली करना होगा. सोसाइटी के हजारों लोग सुबह-सुबह सोसाइटी से बाहर चले जाएंगे और शाम तक जब विस्फोट की पूरी प्रक्रिया खत्म जाएगी, उसके बाद वापस लौटेंगे. जिन लोगों की मेडिकल कंडीशन ठीक नही है या जो करवा रहे है उनको फेलिक्स अस्पताल में रखा जाएगा.
  7. टावर गिराए जाने के दौरान आसपास की सोसाइटी में रहने वाले लोगों को छतों और बालकनी पर जाने कि इजाजत नहीं है. वहीं 31 अगस्त तक ट्विन टावर के आसपास के को नो फ्लाई जोन गया है और कोई अगर इसका करता है तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा.
  8. आसपास की सोसायटी से लगभग 3000 गाड़ियां बाहर निकाली जाएगी और 250 मीटर तथा कुछ जगह पर इससे भी ज्यादा दूरी का आइसोलेशन जोन रहेगा. ब्लास्ट वाले दिन यहां पर एक इंसीडेंट कमांडेंट होंगे जो कि डीसीपी (DCP) लेवल के अधिकारी हैं.
  9. 250 मीटर और कहीं- कहीं इससे भी ज्यादा दूरी का एक्सक्लूजन जोन बनाया है. सिर्फ 6 रहेंगे. भी ट्विन टावर से 100 मीटर की दूरी रहेंगे. एक पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी, 3 ब्लास्टर्स और 2 प्रोजेक्ट मैनेजर्स होंगे. इन 6 लोगों के अलावा कोई भी इंसान या जानवर इस एक्सक्लूजन जोन में नहीं रहेगा.
  10. में यह बिल्डिंग गिरानी उसी हिसाब से विस्फोटक लगाएं गए हैं. जब सियान के 60% बारूद फट चुके होंगे तब एपेक्स का पहला बारूद फटेगा. टावर पहले गिरेगा उसके कुछ बाद एपेक्स टावर दिखेगा. ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि वाइब्रेशन कम किया जा सके.करीब 17 मिली सेकंड से लेकर 200 मिली सेकंड के अंतर पर ब्लास्ट होंगे. सभी बारूद को फटने में 9 सेकंड लगेंगे और बिल्डिंग नीचे गिरने में चार सेकंड लगेंगे. मिलाकर 12 से 13 सेकंड में यह बिल्डिंग पूरी नीचे गिर जाएगी.

भी पढ़ें

Sonali Phogat Murder: बाथरूम से मिला सिंथेटिक ड्रग, गोवा के रेस्टोरेंट का मालिक भी दबोचा गया, अब तक चार गिरफ्तार

CJI NV Ramana: मीडिया से लेकर सत्ता और विपक्ष तक… चीफ जस्टिस रहते एनवी रमना ने कई बार लगाई जमकर फटकार

See also  Intel reveals one of its 13th gen CPUs will reach 6GHz at stock, 8GHz when overclocked - ANI News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments