Friday, September 30, 2022
HomeEducationNCERT: स्कूलों में कक्षा एक से बारहवीं तक कला शिक्षा होगी अनिवार्य,...

NCERT: स्कूलों में कक्षा एक से बारहवीं तक कला शिक्षा होगी अनिवार्य, अब कोडिंग भी अब सिख पाएंगे छात्र

, स्कूलों का नया स्कूली पाठ्यक्रम आधुनिकता और भारतीय कला व संस्कृति का मिश्रण होगा, जहां बच्चों को कोडिंग व आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस के साथ कला (आर्ट एजुकेशन) की भी शिक्षा दी जाएगी। फिलहाल राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद ( एनसीईआरटी) ने सभी स्कूलों में पहली से बारहवीं कक्षा तक कला को अनिवार्य रूप से पढ़ाने की सिफारिश की है।

साथ ही इसके लिए सभी स्कूलों में अनिवार्य रूप से कला शिक्षक भी नियुक्त करने का सुझाव दिया है। एनसीईआरटी के कला एवं सौंदर्यबोध विभाग ने यह सिफारिश उस समय की है, जब नए स्कूली पाठ्यक्रम को तैयार करने का काम तेजी से चल रहा है।

को लेकर अभी तक राष्ट्रीय स्तर पर नहीं थी कोई गाइडलाइन

इस सिफारिश में न सिर्फ कला को एक विषय के रूप में सभी स्कूलों में पढ़ाने की सिफारिश की गई मूल्यांकन को भी जरूरी बताते परीक्षा परिणाम में भी इनके अंकों जोड़ने की पैरवी की है। को लेकर अभी तक राष्ट्रीय स्तर पर कोई गाइडलाइन नहीं थी। कोई राज्य भी इसे लेकर गंभीर नहीं थे। इसके साथ ही कला शिक्षकों के लिए अब तक कोई न्यूनतम योग्यता निर्धारित नहीं थी, हालांकि इसे लेकर उत्तर प्रदेश, बिहार, व उत्तराखंड सहित देश के भर से ज्यादा राज्यों में कला क्षेत्र से जुड़े छात्र आंदोलन भी कर चुके है।

इंटीग्रेटेड बीएड कोर्स शुरू करने की तैयारी में जुटी एनसीईआरटी

शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए एनसीईआरटी ने कला शिक्षा में चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड कोर्स शुरू करने की तैयारी में जुटी है। जा रहा है कि अगले साल से शुरू होने वाले चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड कोर्सों के साथ ही इसे भी शुरू कर दिया जाएगा। तक कला की पढ़ाई वाले छात्र सीधे दाखिला ले सकेंगे। वैसे तो अभी तक चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड के तहत बीए-बीएड, बीएससी-बीएड व बी-काम-बीएड जैसे कोर्स शुरू करने का प्रस्ताव था। अब बीए-बीएड इन आर्ट एजुकेशन भी शुरू होगा।

See also  105 सरकारी स्कूलों को बंद करने का विरोध, बोले- सरकार का फैसला शिक्षा विरोधी | Karnal News, Youth Congress launched a signature campaign against the closure of 105 schools by the state government

साथ ही स्कूलों में कला की पढ़ाई के लिए नए पाठ्यक्रम भी तैयार होगा। है कि यह सारी पहल नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के आने के बाद शुरू की गई है। स्कूली छात्रों को भारतीय कला और संस्कृति से जोड़ने की सिफारिश की गई है।

Edited by: Piyush Kumara

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments