Thursday, September 29, 2022
HomeEntertainmentKaran Johar Speaks To Pankaj Shukla Nepotism Social Media Power Koffee With...

Karan Johar Speaks To Pankaj Shukla Nepotism Social Media Power Koffee With Karan 7 Tabassum Simi Grewal – Exclusive: करण जौहर ने मानी सोशल मीडिया की ताकत, बोले, ‘हां, इसने खत्म कर दिया सितारों का रहस्यमयी आवरण’

निर्माता, निर्देशक और चैट शो ‘कॉफी विद करण’ के होस्ट करण जौहर की गिनती हिंदी सिनेमा के दिग्गज फिल्मकारों में होती है। पर उनको निशाना भी खूब बनाया जाता है। उन पर ये भी लगता रहा है कि वह सिर्फ फिल्मी परिवारों को बच्चों को ही अपनी फिल्मों में काम देते हैं। जौहर इन दिनों अपने चैट शो का सातवां सीजन होस्ट कर रहे हैं। उनकी बतौर निर्माता दो फिल्में ‘ब्रह्मास्त्र’ और ‘लाइगर’ अगले एक महीने में रिलीज होने वाली हैं। ‘अमर उजाला’ के सलाहकार संपादक पंकज शुक्ल से इस एक्सक्लूसिव मुलाकात में करण दे रहे हैं अपने ऊपर अक्सर लगने वाले आरोपों के जवाब। इस एक्सक्लूसिव इंटरव्यू के कुछ अंश..

‘कॉफी विद करण’ सीजन 7 इन दिनों काफी हंगामा है। शो करने का विचार आपको कैसे आया?

बड़ा प्रशंसक रहा हूं तबस्सुम जी का। एक शो आया करता था, ‘फूल खिले हैं गुलशन गुलशन’। सिमी ग्रेवाल का एक शो शुरू हुआ, ‘रौंडवू विद सिमी ग्रेवाल’। पसंद करता था इन शोज को। के शो का तो मुझे बेसब्री से इंतजार रहता था। बचपन की एक बहुत ही खूबसूरत याद है। जेहन में हमेशा एक बात थी कि मैं भी एक टॉक शो करूंगा। दो लोगों का बुलाऊंगा। शो जब शुरू हुआ तो लोग मानते थे कि ‘के’ अक्षर मेरे लिए सौभाग्यशाली है। उन दिनों मैंने फिल्म ‘कुछ कुछ होता है’ बनाई थी, फिर ‘कभी खुशी कभी गम’ और ‘कल हो ना ‘ बनाई तो मैंने कहा कि चलो चैट शो का नाम रखते हैं ‘कॉफी विद करण’ लेकिन मैंने कॉफी की वर्तनी ‘ ‘ कर दी। मुझे काफी आलोचना भी सुननी पड़ी। और, एक बार तो अंग्रेजी की एक शिक्षक ने मुझे कहा भी कि आपकी वजह से बच्चे कॉफी की स्पेलिंग ‘के’ से लिखने लगे हैं।

See also  JugJugg Jeeyo Success Party Kiara Advani Trolled For Her Dress | Jugjugg Jeeyo की सक्सेस पार्टी में ऐसी ड्रेस पहनकर पहुंचीं Kiara Advani कि हो गईं ट्रोल, यूजर्स बोले

बार जब आपने अपना शो शुरू किया तो पहले ही एपीसोड में काफी कुछ ऐसा कहा जिससे लगता है कि ये शो अब आपका ‘माउथपीस’ ..

बिल्कुल, बहुत सी चीजें जो मैं कहना चाहता हूं और जो शायद मैं सामान्य साक्षात्कारों में नहीं कह सकता या कहना नहीं चाहता, वह मैं यहां कहता हूं। एपीसोड के पहले दो मिनट में। कहता हूं कि वह मेरी निजी राय होती है। हम इसे थोड़ा हंसी मजाक में कहते हैं और उसको गंभीर होने से भी बचाते हैं। लेकिन, मैं मेहमानों के लिए भी जो कुछ बातें शो के दौरान कहता हूं, वे मेरी अपनी राय होती है।

पिछले दो साल में आप वाकई काफी परेशान भी रहे?

नहीं ? इंडस्ट्री की खूब आलोचना हुई है, खिंचाई हुई है। भला बुरा कहा गया। इतने हुए। भी बहुत सारी बातें लिखी गईं। s , इंस्टाग्राम पर इतना कुछ लोगों ने कहा। हैं। होता है। है। काम है। है कि लोगों को अपने काम से खुश कर सकें। सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने वाले लोग समझते हैं कि वे आपको जानते हैं और वह अपनी राय बना लेते हैं। इन दो साल में बहुत कुछ पढ़ा मैंने और फिर मुझे लगा कि शायद मैं ये सीजन न करूं। लेकिन, मेरी मां (हीरू जौहर) ने मुझे समझाया कि अगर आप साफ दिल से कोई काम करते हो और आपको उस पर सच्चा भरोसा है तो वह काम करना ही चाहिए।

मीडिया पर सितारों के जितने फॉलोअर्स होते हैं अगर उतनी ही टिकटें बिक जाएं तो फिर कोई फिल्म फ्लॉप नहीं होगी। आपको नहीं लगता कि सोशल मीडिया की इफरात ने दर्शकों का सिनेमा के प्रति आकर्षण कम कर दिया है?

हां, सितारों के इर्द गिर्द रहने वाला रहस्यमयी आवरण सोशल मीडिया के चलते खत्म हो गया है। पीढ़ी शायद स्टारडम का असली रूप न देख पाए। से लेकर अक्षय कुमार तक सबका स्टारडम रहा है। में मुझे याद है कि अमिताभ बच्चन जब पार्टी में आते थे तो हम उत्सुक रहते थे कि देखें आज क्या पहना है? हम उनको देख भी नहीं पाते थे। प्रीमियर या मुहूर्त की तस्वीरें आती थीं। बना था। रही बात फिल्मों के चलने न चलने की तो मेरे पिता (यश जौहर) कहा करते थे, ‘हिट फिल्म इज ए गुड फिल्म’। हुआ ही नहीं है कि कोई बहुत खूबसूरत फिल्म बनी, हिंदुस्तान ने उसे तहे दिल से चाहा और वह नहीं चली।

See also  एक सेल्फी के 14 हजार, मिलने के 38 हजार... फैन्स के लिए एक्ट्रेस के नियम! - Actress Emilia Clarke going to charge 14 thousand rupees for selfie with her tstsb

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments