Saturday, December 3, 2022
HomeEducationJBT News : जेबीटी में एक भी बीएड को नहीं मिली नौकरी,...

JBT News : जेबीटी में एक भी बीएड को नहीं मिली नौकरी, स्कूल शिक्षा बोर्ड के टेट नियम आए आड़े

से पात्रता के बाद भी स्कूल शिक्षा बोर्ड के टेट नियम आए आड़े

ब्यूरो —

तीन साल के अंतराल के बाद घोषित हुए जेबीटी भर्ती के रिजल्ट में एक भी बीएड पास अभ्यर्थी को नौकरी नहीं मिली है। हालांकि इस रिजल्ट को बनाती बार केवल उन बीएड धारकों को कंसीडर किया गया था, जिनके पास जेबीटी या डीएलएड का टेट पास था, लेकिन अंतिम रिजल्ट में किसी को नौकरी नहीं मिली है। चयन आयोग ने मंगलवार रात को ही रिजल्ट घोषित किया था। इसमें रिजेक्शन लिस्ट में 1600 बीएड डिग्री धारकों के नाम हैं। यानी डीएलएड या जेबीटी का टेट न होने की सूरत में इनको रिजेक्ट किया गया है। 40 जेबीटी प्रशिक्षु भी रिजेक्ट हुए हैं, लेकिन वे जरूरी डॉक्यूमेंट प्रोड्यूस नहीं कर पाए थे। डिग्री धारकों को रिजेक्ट करने के खिलाफ अब दोबारा से हाई कोर्ट में केस जा सकता है। 617 पदों के लिए हुई इस भर्ती परीक्षा में 613 जेबीटी प्रशिक्षुओं का चयन हुआ है, जबकि चार पद खाली रह गए हैं। की प्रक्रिया दिसंबर 2018 शुरू हुई थी। बीच में एनसीटीई ने जेबीटी की पदों के लिए बीएड को भी कुछ शर्तों के साथ पात्र घोषित कर दिया था। कोर्ट में चले केस के बीच में राज्य सरकार को भी यहां इस भर्ती में बीएड वालों को लेना पड़ा। स्कूल शिक्षा बोर्ड के रूल्स आड़े आ गए।

भर्ती का बढ़ा दबाव

कमीशन का रिजल्ट निकलने के बाद अब जेबीटी की बैचवाइज भर्ती के लिए नियुक्तियां शुरू करने का दबाव बढ़ गया है। जेबीटी प्रशिक्षुओं ने राज्य सरकार से मांग की है कि जिस तरह से कमीशन में वर्तमान भर्ती नियमों के दायरे में रिजल्ट घोषित किया गया तरह बैचवाइज में भी नियुक्तियां दी जाएं। बैचवाइज में 485 पदों के लिए काउंसिलिंग पूरी हो चुकी है और पूरे प्रदेश में सिर्फ आठ बीएड धारकों ने काउंसिलिंग को अटेंड किया है। हालांकि प्रारंभिक शिक्षा विभाग इस भर्ती को लेकर क्या फैसला लेगा, यह अभी स्पष्ट नहीं है।

See also  What do MSU students think of the ‘Gujarat model’ of education?

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments