Thursday, September 29, 2022
HomeEducationIndia Population: विदेश मंत्री S Jaishankar ने कहा- शिक्षा और सामाजिक जागरूकता...

India Population: विदेश मंत्री S Jaishankar ने कहा- शिक्षा और सामाजिक जागरूकता से घट रही है भारत की जनसंख्या

Author: Devshanker ChovdharyPublication date: Mon, 05 Sep 2022 08:52 (IST)Updated Date: Mon, 05 Sep 2022 08:52 (IST)

, मंत्री एस जयशंकर ने रविवार को कहा कि भारत की जनसंख्या शिक्षा, सामाजिक जागरूकता और समृद्धि के कारण घट रही है। उन्होंने गुजरात में एक कार्यक्रम में अपनी किताब ‘The India Way: Strategies for an Uncertain World’ का गुजराती अनुवाद लांच किया। उन्होंने देश की जनसंख्या पर बोलते हुए कहा, ‘भारतीय जनसंख्या की वृद्धि दर गिर रही है। कारण शिक्षा, सामाजिक जागरूकता और समृद्धि है।’

में बदलाव

भारत को आजादी मिलने के बाद से देश में जनसांख्यिकीय संरचना में भारी बदलाव हुआ है। जनसंख्या विस्फोट (जनगणना 1951) से गुजरा है और कुल प्रजनन दर में भी गिरावट देखी गई है। साथ ही, विभिन्न मृत्यु दर संकेतकों में सुधार हुआ है, लेकिन जीवन स्तर में सुधार, कौशल और प्रशिक्षण प्रदान और पैदा करने के मामले में जनसांख्यिकीय लाभांश नहीं मिल पा रहा है, जिन्हें दूर किया जाना है।

आबादी होगी सबसे अधिक

बता दें कि हाल ही में UN World Population Prospects (WPP) ने कहा था कि भारत 2023 तक 140 करोड़ की आबादी के साथ चीन को पछाड़ते हुए, सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा। वर्तमान में भारत की आबादी विश्व की जनसंख्या का 17.5 प्रतिशत है। रिपोर्ट के अनुसार, 2030 तक भारत की आबादी 150 करोड़ और 2050 तक 166 करोड़ तक पहुंचने का अनुमान है। विदेश मंत्री ने कहा, ‘जबरन जनसंख्या नियंत्रण परिणाम बहुत खतरनाक हो सकते हैं, इससे लिंग असंतुलन की स्थिति पैदा हो सकती है।’

मिला स्वतंत्र विदेश नीति

ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश को स्वतंत्र विदेश नीति मिला है। जयशंकर ने कहा, ‘कुछ राजनीतिक कारणों से, हमें खुद को इज़राइल के साथ संबंध बढ़ाने से प्रतिबंधित करना पड़ा। पहले भारतीय प्रधानमंत्री थे जो इज़राइल गए थे। वह समय चला गया, जब हम वोट बैंक की राजनीति के लिए राष्ट्रीय हित को अलग रखते थे।’ कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार में विदेश मंत्री होना एक बड़ी ताकत है। कहा कि मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान विदेश नीति का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा। कोई गलत कदम उठाए गए हो।

See also  Why Amit Shah’s push for regional language-based higher education is a deceptive game

Edited by: Devshanker Chovdhary

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments