Friday, September 30, 2022
HomeEducationGirls Education: मुफ्त शिक्षा से संवारेंगी भविष्‍य, अयोध्‍या की बेटी ने 200...

Girls Education: मुफ्त शिक्षा से संवारेंगी भविष्‍य, अयोध्‍या की बेटी ने 200 से ज्‍यादा लड़कियों को लिया गोद

: प्रदेश के अयोध्या में मयूरी तिवारी ने लड़कियों को बेहतर शिक्षा प्रदान करने के लिए एक अनूठी पहल शुरू की है। मयूरी तिवारी ने 200 से अधिक लड़कियों को अपने स्कूल में मुफ्त शिक्षा मुहैया करने के लिए गोद लिया है और उनका यह काम 2016 से जारी है। के शाहगंज बाजार में स्थित रामेश्वर प्रसाद सत्य नारायण इंटर कॉलेज में मयूरी तिवारी का स्कूल है, जिसमें वह प्रिंसिपल भी हैं। उन्होंने 200 से अधिक लड़कियों को अपने स्कूल में मुफ्त शिक्षा प्रदान करने के लिए गोद लिया है। मयूरी का कहना है कि लोग शहर में लड़कियों की शिक्षा पर पैसे खर्च करते हैं, उनको पढ़ाते हैं, लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में लड़कियों की बेहतर शिक्षा पर विशेष ध्यान नहीं दिया जाता है।

तिवारी को इस बात का एहसास तब हुआ जब उन्होंने अपना स्कूल खोला। यह महसूस किया कि ग्रामीण क्षेत्र के लोग अपने लड़कों को तो अच्छे स्कूल में पढ़ाते हैं लेकिन लड़कियों को नहीं। से मयूरी तिवारी ने यह फैसला लिया कि वह अधिक से अधिक लड़कियों को अच्छी शिक्षा देंगी। कहा कि कहीं ना कहीं पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान का प्रभाव भी उन पर पड़ा है। वजह से उन्होंने यह सोचा कि वो इस अभियान में अपना कुछ भी योगदान पाई तो ये उनके लिए बड़ी बात होगी। इसी क्रम में मयूरी तिवारी ने लड़कियों को आगे बढ़ाने के लिए 2016 से मुहिम चलाई “बेटियां आपकी जिम्मेदारी हमारी” 2016 में उन्होंने 280 लड़कियों को शिक्षित करने के लिए गोद लिया और तब से हर वर्ष यह कार्य जारी है।

ने 2016 से शुरू की मुहिम
टाइम्स ऑनलाइन से मयूरी तिवारी ने बातचीत में बताया की मेरा स्कूल रामेश्वर प्रसाद सत्य नारायण इंटर कॉलेज शाहगंज बाजार में स्थित है। 2016 से हम ये मुहीम चला रहे हैं, बेटियां आपकी जिम्मेदारी हमारी। तैहत 2016 में हमने 280 लड़कियों को पढ़ाने की जिम्मेदारी ली। से प्रति वर्ष लड़कियों की शिक्षा का दायित्व लेती चली आ रही हूं। ये देखा की ग्रामीण क्षेत्र में लोग लड़कों को तो पढ़ना चाहते हैं लेकिन कहीं ना कहीं लड़कियों की शिक्षा में कॉम्प्रोमाइज करते हैं। मैंने ये सोचा की ये पहल हम ही करें और इस पहल के तहत हमने ये स्कीम चलाई बेटियां आपकी जिम्मेदारी हमारी।

See also  UPI Lite Users can payment Without PIN Without Internet Check This Easy Process | UPI Payment के लिए अब इंटरनेट-PIN को कहें बाय-बाय, अपनाएं ये फ्री एवं सेफ ऑप्‍शन

ने आगे बताया कि मेरी जिंदगी का सबसे अच्छा फैसला शिक्षा के लिए लड़कियों को गोद लिया। उन्होंने कहा कि इस वक्त कितनी लड़कियां हैं, इसका बिल्कुल तय डाटा तो नहीं दे सकती, क्योंकि लड़कियां पास आउट होती रहती हैं। डेढ़ दो सौ लड़कियां होंगी। बताया कि आर्थिक रूप से कमजोर लड़कियों की शिक्षा की जिम्मेदारी मैं लेती हूं।

अभियान से भी ली प्रेरणा
कहा कि 2011 में स्कूल शुरू हुआ और 2016 से हमने मुहिम चलाई है। कहीं ना कहीं पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान का भी बहुत प्रभाव पड़ा। बाद मैंने भी सोचा कि इसमें अपना कुछ कंट्रीब्यूशन कर सकूं तो करूंगी। कुछ अच्छा मिले तो करना चाहिए।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments