Wednesday, November 30, 2022
HomeEducationExample: Speak 16 Languages With Education And Research, 20 Understand Iit Jodhpur...

Example: Speak 16 Languages With Education And Research, 20 Understand Iit Jodhpur Students – मिसाल : शिक्षा और अनुसंधान के साथ 16 भाषाएं बोलते, 20 समझते हैं आईआईटी जोधपुर के छात्र


s
– : Freepik

सुनें

IIT Jodhpur : आईआईटी जोधपुर का कैंपस सभी उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए एक उदाहरण हैं। यहां के छात्र, शिक्षक और कर्मचारी हाय, हैलो और गुड मार्निंग से बात नहीं करते हैं। वे नमस्कार, प्रणाम, सतश्री अकाल, नोमोश्कार, वणक्कम, खम्मा गनी, केम छो, चिबाई और ताशी देलेक से एक-दूसरे का अभिनंदन करते हैं।

2008 में स्थापित आईआईटी जोधपुर शिक्षा और अनुसंधान के साथ इन दिनों भाषाई विविधता के चलते चर्चा में है। यहां के छात्र 16 भाषाएं बोलते, 12 भाषाएं लिखते और 20 भाषाएं समझते हैं। संस्थान शिक्षा और अनुसंधान में विकास के साथ इकोसिस्टम में भाषाई विविधता की पहचान बढ़ा रहा है।

भाषाई विविधता के चलते ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ का संदेश
आईआईटी जोधपुर कैंपस भाषाई विविधता के चलते ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ का संदेश दे रहा है। दूरदराज के इलाकों से आने वाले छात्र एक परिवार की तरह मिलजुलकर रहते हैं। घर से दूर रहने की कमी महसूस नहीं होती है। संस्कृति, को बढ़ावा दे रहे हैं। देश के शीर्ष प्रौद्योगिकी संस्थानों की यही एकता भारत को एक दिन प्रौद्योगिकी में आत्मनिर्भर बनाएगी। – चौधरी, , जोधपुर

वाले अधिक
कैंपस में सबसे अधिक हिंदी बोलने वाले 37.9 फीसदी छात्र हैं। जबकि अंग्रेजी में बात करने वालों का आंकड़ा 36.6 फीसदी है। तीसरे नंबर पर तेलुगू 4.6 फीसदी, मराठी 3.8 फीसदी, गुजराती तीन फीसदी, बंगाली 2.8 फीसदी, पंजाबी 2.1 फीसदी, कन्नड़ 1.5 , मैथिली 0.4 फीसदी, उर्दू 1.7 फीसदी, असमिया 0.7 , तमिल 1.5 फीसदी हैं।

साथ अंग्रेजी लिखने वाले ज्यादा
अंग्रेजी और हिंदी लिखने वालों की संख्या सबसे अधिक 37.9 फीसदी है। 3.8 , 3.6 , संस्कृत 2.8 , गुजराती 2.8 , पंजाबी 1.2 , 1.2 हैं।

See also  Indian Institute of Science Education And Research Thiruvananthapuram Celebrates 14th Foundation Day

संस्कृत से ज्यादा अंग्रेजी भाषा समझते
कैंपस में हिंदी से अधिक अंग्रेजी भाषा को समझने वाले छात्रों, शिक्षकों व कर्मियों की संख्या है। इसमें अंग्रेजी के 32.9 फीसदी, हिंदी के 32.6, गुजराती के 4.8 फीसदी, बंगाली 3.2 , तेलुगू 4.1 , 2.9 फीसदी, सिंधी 0.5 , संस्कृत 3.7 फीसदी, पंजाबी 4.5, 4.7 , मलयालम 3.7 , 2.4प्रतिशत, 1.4 हैं।

विस्तार

IIT Jodhpur : आईआईटी जोधपुर का कैंपस सभी उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए एक उदाहरण हैं। यहां के छात्र, शिक्षक और कर्मचारी हाय, हैलो और गुड मार्निंग से बात नहीं करते हैं। वे नमस्कार, प्रणाम, सतश्री अकाल, नोमोश्कार, वणक्कम, खम्मा गनी, केम छो, चिबाई और ताशी देलेक से एक-दूसरे का अभिनंदन करते हैं।

2008 में स्थापित आईआईटी जोधपुर शिक्षा और अनुसंधान के साथ इन दिनों भाषाई विविधता के चलते चर्चा में है। यहां के छात्र 16 भाषाएं बोलते, 12 भाषाएं लिखते और 20 भाषाएं समझते हैं। संस्थान शिक्षा और अनुसंधान में विकास के साथ इकोसिस्टम में भाषाई विविधता की पहचान बढ़ा रहा है।

भाषाई विविधता के चलते ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ का संदेश

आईआईटी जोधपुर कैंपस भाषाई विविधता के चलते ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ का संदेश दे रहा है। दूरदराज के इलाकों से आने वाले छात्र एक परिवार की तरह मिलजुलकर रहते हैं। घर से दूर रहने की कमी महसूस नहीं होती है। संस्कृति, को बढ़ावा दे रहे हैं। देश के शीर्ष प्रौद्योगिकी संस्थानों की यही एकता भारत को एक दिन प्रौद्योगिकी में आत्मनिर्भर बनाएगी। – शांतनु चौधरी, , जोधपुर

वाले सबसे अधिक

कैंपस में सबसे अधिक हिंदी बोलने वाले 37.9 फीसदी छात्र हैं। जबकि अंग्रेजी में बात करने वालों का आंकड़ा 36.6 फीसदी है। तीसरे नंबर पर तेलुगू 4.6 फीसदी, मराठी 3.8 फीसदी, गुजराती तीन फीसदी, बंगाली 2.8 फीसदी, पंजाबी 2.1 फीसदी, कन्नड़ 1.5 , मैथिली 0.4 फीसदी, उर्दू 1.7 फीसदी, असमिया 0.7 , तमिल 1.5 फीसदी हैं।

See also  रावण पर दशहरे से पहले महाभारत, आदिपुरुष में सैफ अली खान के किरदार पर उठे सवाल - Hindustan

साथ अंग्रेजी लिखने वाले ज्यादा

अंग्रेजी और हिंदी लिखने वालों की संख्या सबसे अधिक 37.9 फीसदी है। 3.8 , 3.6 , संस्कृत 2.8 , गुजराती 2.8 , पंजाबी 1.2 , 1.2 हैं।

संस्कृत से ज्यादा अंग्रेजी भाषा समझते

कैंपस में हिंदी से अधिक अंग्रेजी भाषा को समझने वाले छात्रों, शिक्षकों व कर्मियों की संख्या है। इसमें अंग्रेजी के 32.9 फीसदी, हिंदी के 32.6, गुजराती के 4.8 फीसदी, बंगाली 3.2 , तेलुगू 4.1 , 2.9 फीसदी, सिंधी 0.5 , संस्कृत 3.7 फीसदी, पंजाबी 4.5, 4.7 , मलयालम 3.7 , 2.4प्रतिशत, 1.4 हैं।


RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments