Friday, September 30, 2022
HomeEducationEducation Township : First Education Township Of Country To Be Developed In...

Education Township : First Education Township Of Country To Be Developed In Up – Education Township : यूपी में विकसित होगी देश की पहली एजुकेशन टाउनशिप, शिक्षाविदों ने किया स्वागत

सुनें

में एक ही जगह पर छात्रों का सभी प्रकार की शिक्षा व विभिन्न तरह के कौशल विकास का प्रशिक्षण देने की तैयारी है। लिए अमेरिका जैसेे देशों की तर्ज पर प्रदेश में एजुकेशन टाउनशिप विकसित की जाएगी। बड़ी बात यह है कि देश में पहली ऐसी टाउनशिप यूपी में खुलेगी। योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर इस प्रस्ताव का मुख्य सचिव के सामने प्रस्तुतीकरण भी हो चुका है। प्रस्ताव पर मुहर भी लगा दी है। प्रदेश में ऐसी पांच टाउनशिप विकसित करने का निर्देश दिया है। यह प्रस्ताव धरातल पर आकार लेगा।

प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डॉलर बनाने के लिए सलाहकार कंपनी डेलाइट इंडिया के प्रतिनिधियों के साथ हुई बैठक में मुख्यमंत्री ने इस संबंध में वृहद कार्य योजना बनाने के निर्देश दिए थे। अधिकारियों के अनुसार प्रस्तावित टाउनशिप ‘सिंगल एंट्री, मल्टीपल एग्जिट’ यानी ‘कोरे कागज की तरह आइए… कई हुनर ​​​​ जाइए’ के ​​​​ पर है। टाउनशिप का फोकस उच्च श्रेणी की शिक्षा पर रहेगा, जो देश ही नहीं बल्कि अफ्रीकी, लैटिन अमेरिकी और मध्य एशियाई देशों के छात्रों को भी आकर्षित करेगी।

के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय खोल सकेंगे कैंपस

  • में निजी क्षेत्र की भूमिका महत्वपूर्ण होगी। और दुनिया के प्रतिष्ठित सरकारी और निजी विश्वविद्यालय इसमें अपना कैंपस खोल सकेंगे।
  • विद्यालय जैसे प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालय भी होंगे। परास्नातक की पढ़ाई के लिए विश्वविद्यालय और कॉलेज की स्थापना होगी। , तकनीक, विधि व मेडिकल से जुड़े पाठ्यक्रमों की पढ़ाई व रिसर्च आदि होंगे।
  • के लिए स्किल विश्वविद्यालय भी होगा। सस्ती और अच्छी शिक्षा मिलेगी। बाद नौकरी या स्वरोजगार शुरू करने में काफी आसानी होगी।
की तैयारी के होंगे संस्थान

See also  How Edtech is democratizing education

में अभ्युदय जैसे कई अन्य कोचिंग संस्थान भी शुरू किए जाएंगे। इनके जरिए नीट, आईआईटी, संघ लोक सेवा आयोग जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराई जाएगी। ही छात्रों और अध्यापकों के लिए आवास की भी व्यवस्था होगी।

देशों में है ऐसी व्यवस्था
अमेरिका के पीट्सबर्ग शहर, संयुक्त अरब अमीरात के दुबई में नॉलेज सिटी और के नॉलेज विलेज में ऐसी व्यवस्था है जहां दुनिया के कई देशों के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के कैंपस हैं।

– पहल
मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रोफेसर मनोज दीक्षित का कहना है कि एजुकेशन टाउनशिप की संकल्पना राष्ट्रीय शिक्षा नीति की बुनियाद को और मजबूत करेगी। दुनिया के सभी विकासशील और अविकसित देश हमारी राष्ट्रीय शिक्षा नीति की ओर आशा भरी नजरों से देख रहे हैं। और अच्छी शिक्षा के कॉन्सेप्ट को पूरा करेगा।

हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) स्थित भारत अध्ययन केंद्र के फाउंडर चेयर प्रोफेसर डॉ. राकेश उपाध्याय के अनुसार टाउनशिप में नर्सरी से लेकर अलग-अलग विषयों में उच्च शिक्षा व रिसर्च तक की सुविधा एक ही स्थान पर मिलेगी। में तेजी से विदेशी छात्रों की संख्या बढ़ रही है। यह संकल्पना उचित है।

विस्तार

में एक ही जगह पर छात्रों का सभी प्रकार की शिक्षा व विभिन्न तरह के कौशल विकास का प्रशिक्षण देने की तैयारी है। लिए अमेरिका जैसेे देशों की तर्ज पर प्रदेश में एजुकेशन टाउनशिप विकसित की जाएगी। बड़ी बात यह है कि देश में पहली ऐसी टाउनशिप यूपी में खुलेगी। योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर इस प्रस्ताव का मुख्य सचिव के सामने प्रस्तुतीकरण भी हो चुका है। प्रस्ताव पर मुहर भी लगा दी है। प्रदेश में ऐसी पांच टाउनशिप विकसित करने का निर्देश दिया है। यह प्रस्ताव धरातल पर आकार लेगा।

See also  शैक्षिक संस्थाओं को डिग्री देने के साथ-साथ गुणवत्ता पर भी ध्यान देना जरूरी : न्यायमूर्ति राजेश बिंदल

प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डॉलर बनाने के लिए सलाहकार कंपनी डेलाइट इंडिया के प्रतिनिधियों के साथ हुई बैठक में मुख्यमंत्री ने इस संबंध में वृहद कार्य योजना बनाने के निर्देश दिए थे। अधिकारियों के अनुसार प्रस्तावित टाउनशिप ‘सिंगल एंट्री, मल्टीपल एग्जिट’ यानी ‘कोरे कागज की तरह आइए… कई हुनर ​​​​ जाइए’ के ​​​​ पर है। टाउनशिप का फोकस उच्च श्रेणी की शिक्षा पर रहेगा, जो देश ही नहीं बल्कि अफ्रीकी, लैटिन अमेरिकी और मध्य एशियाई देशों के छात्रों को भी आकर्षित करेगी।

के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय खोल सकेंगे कैंपस

  • में निजी क्षेत्र की भूमिका महत्वपूर्ण होगी। और दुनिया के प्रतिष्ठित सरकारी और निजी विश्वविद्यालय इसमें अपना कैंपस खोल सकेंगे।
  • विद्यालय जैसे प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालय भी होंगे। परास्नातक की पढ़ाई के लिए विश्वविद्यालय और कॉलेज की स्थापना होगी। , तकनीक, विधि व मेडिकल से जुड़े पाठ्यक्रमों की पढ़ाई व रिसर्च आदि होंगे।
  • के लिए स्किल विश्वविद्यालय भी होगा। सस्ती और अच्छी शिक्षा मिलेगी। बाद नौकरी या स्वरोजगार शुरू करने में काफी आसानी होगी।

की तैयारी के होंगे संस्थान

में अभ्युदय जैसे कई अन्य कोचिंग संस्थान भी शुरू किए जाएंगे। इनके जरिए नीट, आईआईटी, संघ लोक सेवा आयोग जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराई जाएगी। ही छात्रों और अध्यापकों के लिए आवास की भी व्यवस्था होगी।

देशों में है ऐसी व्यवस्था

अमेरिका के पीट्सबर्ग शहर, संयुक्त अरब अमीरात के दुबई में नॉलेज सिटी और के नॉलेज विलेज में ऐसी व्यवस्था है जहां दुनिया के कई देशों के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के कैंपस हैं।

– पहल

मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रोफेसर मनोज दीक्षित का कहना है कि एजुकेशन टाउनशिप की संकल्पना राष्ट्रीय शिक्षा नीति की बुनियाद को और मजबूत करेगी। दुनिया के सभी विकासशील और अविकसित देश हमारी राष्ट्रीय शिक्षा नीति की ओर आशा भरी नजरों से देख रहे हैं। और अच्छी शिक्षा के कॉन्सेप्ट को पूरा करेगा।

See also  Independence Day 2022: India's journey in education, from 18.3% literacy rate to 77.7%

हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) स्थित भारत अध्ययन केंद्र के फाउंडर चेयर प्रोफेसर डॉ. राकेश उपाध्याय के अनुसार टाउनशिप में नर्सरी से लेकर अलग-अलग विषयों में उच्च शिक्षा व रिसर्च तक की सुविधा एक ही स्थान पर मिलेगी। तेजी से विदेशी छात्रों की संख्या बढ़ रही है। यह संकल्पना उचित है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments