Wednesday, November 30, 2022
HomeEducationEducation Could Be Kept Regular With Technical Resources: Vice Chancellor - तकनीकी...

Education Could Be Kept Regular With Technical Resources: Vice Chancellor – तकनीकी संसाधनों से शिक्षा को नियमित रखा जा सका : कुलपति


डिग्री कॉलेज के सभागार में सेमिनार को संबोधित करती पूनम बजाज व मंचासीन राजा महेंद्र प्र?
– : CITY OFFICE

सुनें

प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ने कहा कि तकनीकी संसाधनों से ही शिक्षा को बिना किसी व्यवधान के निरंतर जारी रखा गया, जिससे सत्र नियमित हो सका।
शनिवार को वह टीकाराम कन्या महाविद्यालय में आईसीएसएसआर की ओर से ‘नई शिक्षा नीति 2020 स्टेप टुवर्ड्स डिजिटल इंडिया’ विषय पर आयोजित दो दिवसीय संगोष्ठी के उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।
कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में डिजिटलकरण की शुरुआत कोविड महामारी के दौरान हुई। बादलपुर प्रो. दिनेश शर्मा ने ई-लर्निंग, आई लर्निंग, ऑनलाइन शिक्षा, वर्चुअल शिक्षा, आरवीआर आदि नवीन तकनीकी के बारे में पीपीटी प्रेजेंटेशन के माध्यम से जानकारी दी।
की प्रो. शर्मिला शर्मा ने कुलपति, महाविद्यालय प्रबंध समिति के सचिव हरि प्रकाश गुप्ता, राजीव अग्रवाल, विशिष्ट अतिथि पूनम बजाज, क्रीड़ा परिषद के प्रांतीय सह मंत्री मनोज शर्मा, इंडियन बैंक के प्रबंधक दिलीप कुमार सिन्हा का स्वागत किया। समन्वयक . कुलसुम ने एनईपी-2020 के उद्देश्यों के बारे में बताया।
. किया। संगोष्ठी के प्रथम दिन आठ तकनीकी सत्र किए गए, जिनमें से दो ऑनलाइन प्रेजेंटेशन, दो पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन व चार ऑफलाइन विभिन्न महाविद्यालय के प्रतिभागियों ने संगोष्ठी पत्र प्रस्तुत किए। कॉलेज प्रो. की।
पर . कॉलेज, . एएमयू, . डीएस कॉलेज, विश्वविद्यालय के पूर्व डॉ. , . एसवी कॉलेज, . पीसी बागला हाथरस, . एसवी कॉलेज, . एएमयू आदि मौजूद रहे।

प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ने कहा कि तकनीकी संसाधनों से ही शिक्षा को बिना किसी व्यवधान के निरंतर जारी रखा गया, जिससे सत्र नियमित हो सका।

See also  Distance Education Will Become A Support For Seven Thousand Students Deprived Of Admission - मिशन एडमिशन: दाखिला से वंचित 7000 विद्यार्थियों के लिए दूरस्थ शिक्षा बनेगी सहारा

शनिवार को वह टीकाराम कन्या महाविद्यालय में आईसीएसएसआर की ओर से ‘नई शिक्षा नीति 2020 स्टेप टुवर्ड्स डिजिटल इंडिया’ विषय पर आयोजित दो दिवसीय संगोष्ठी के उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में डिजिटलकरण की शुरुआत कोविड महामारी के दौरान हुई। बादलपुर प्रो. दिनेश शर्मा ने ई-लर्निंग, आई लर्निंग, ऑनलाइन शिक्षा, वर्चुअल शिक्षा, आरवीआर आदि नवीन तकनीकी के बारे में पीपीटी प्रेजेंटेशन के माध्यम से जानकारी दी।

की प्रो. शर्मिला शर्मा ने कुलपति, महाविद्यालय प्रबंध समिति के सचिव हरि प्रकाश गुप्ता, राजीव अग्रवाल, विशिष्ट अतिथि पूनम बजाज, क्रीड़ा परिषद के प्रांतीय सह मंत्री मनोज शर्मा, इंडियन बैंक के प्रबंधक दिलीप कुमार सिन्हा का स्वागत किया। समन्वयक . कुलसुम ने एनईपी-2020 के उद्देश्यों के बारे में बताया।

. किया। संगोष्ठी के प्रथम दिन आठ तकनीकी सत्र किए गए, जिनमें से दो ऑनलाइन प्रेजेंटेशन, दो पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन व चार ऑफलाइन विभिन्न महाविद्यालय के प्रतिभागियों ने संगोष्ठी पत्र प्रस्तुत किए। कॉलेज प्रो. की।

पर . कॉलेज, . एएमयू, . डीएस कॉलेज, विश्वविद्यालय के पूर्व डॉ. , . एसवी कॉलेज, . पीसी बागला हाथरस, . एसवी कॉलेज, . एएमयू आदि मौजूद रहे।


RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments