Sunday, December 4, 2022
HomeBreaking NewsCongress Mp Mansih Tewari Says Dont Want To Go Into Merits Of...

Congress Mp Mansih Tewari Says Dont Want To Go Into Merits Of Mr Ghulam Nabi Azad Letter – Congress: ‘हंसी आती है जब चपरासी कांग्रेस के बारे में ज्ञान देते हैं’, आजाद के इस्तीफे पर बोले मनीष तिवारी

सुनें

गुलाम नबी आजाद के इस्तीफे पर कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने शनिवार को कहा कि वह आजाद के पांच पन्नों के पत्र के गुण पर टिप्पणी नहीं करना चाहते, जिसमें उन्होंने कांग्रेस नेता राहुल गांधी की आलोचना की थी। कहा कि वह समझाने की सबसे अच्छी स्थिति में होंगे। कांग्रेस नेताओं के चपरासी जब पार्टी के बारे में ज्ञान देते हैं तो यह हंसी का पात्र होता है..।

उन्होंने कहा कि अजीब बात यह है कि जिन लोगों में वार्ड चुनाव लड़ने की क्षमता नहीं है, वे कांग्रेस नेताओं के चपरासी थे, जब पार्टी के बारे में ज्ञान दिया जाता है तो यह हास्यास्पद है। गंभीर स्थिति में हैं। वह खेदजनक, है।

तिवारी ने आगे कहा कि हमें किसी से सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। इस पार्टी को 42 साल दिए हैं। यह पहले भी कह चुका हूं, हम कांग्रेस के किरायेदार नहीं हैं, हम सदस्य हैं। अगर आप हमें बाहर निकालने की कोशिश करेंगे तो यह दूसरी बात है।

मनीष तिवारी ने आगे कहा कि दो साल पहले हम ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी को पत्र लिखकर बताया था कि कांग्रेस की परिस्थिति चिंताजनक है जिसपर विचार करने की ज़रूरत है। कांग्रेस की बगिया को बहुत लोगों, परिवारों ने अपने खून से संजोया है। किसी को कुछ मिला वह खैरात में नहीं मिला है।

उन्होंने कहा कि उत्तर भारत के लोग जो हिमालय की चोटी की ओर रहते हैं, यह जज़्बाती, खुददार लोग होते हैं। पिछले 1000 साल से इनकी तासीर आक्रमणकारियों के खिलाफ लड़ने की रही है। को इन लोगों के धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए।

See also  Pakistan Braces For More Floods, More Than 1,500 Dead, Now, Eye On India

चौधरी ने मोदी पर बोला हमला

नेता अधीर रंजन चौधरी ने पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि हिंदुस्तान में लाखों लोग कोविड से मर रहे थे तब मोदी जी ने किसी के लिए खेद तक व्यक्त नहीं किया लेकिन जिस दिन गुलाम नबी आजाद का राज्यसभा दिन वह लगे। एक था। के लिए रोने की कोई वजह नहीं थी।

नबी आजाद के इस्तीफे पर अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि उनके लिए कांग्रेस में किसी चीज की कमी नहीं थी। आज जब उनको लगा कि उनको कांग्रेस की तरफ से राज्यसभा के लिए टिकट नहीं मिलेगी तो उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी। ऐसे अवसरवादी नेताओं के बारे में जानना चाहिए।

विस्तार

गुलाम नबी आजाद के इस्तीफे पर कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने शनिवार को कहा कि वह आजाद के पांच पन्नों के पत्र के गुण पर टिप्पणी नहीं करना चाहते, जिसमें उन्होंने कांग्रेस नेता राहुल गांधी की आलोचना की थी। कहा कि वह समझाने की सबसे अच्छी स्थिति में होंगे। कांग्रेस नेताओं के चपरासी जब पार्टी के बारे में ज्ञान देते हैं तो यह हंसी का पात्र होता है..।

उन्होंने कहा कि अजीब बात यह है कि जिन लोगों में वार्ड चुनाव लड़ने की क्षमता नहीं है, वे कांग्रेस नेताओं के चपरासी थे, जब पार्टी के बारे में ज्ञान दिया जाता है तो यह हास्यास्पद है। गंभीर स्थिति में हैं। वह खेदजनक, है।

तिवारी ने आगे कहा कि हमें किसी से सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। इस पार्टी को 42 साल दिए हैं। यह पहले भी कह चुका हूं, हम कांग्रेस के किरायेदार नहीं हैं, हम सदस्य हैं। अगर आप हमें बाहर निकालने की कोशिश करेंगे तो यह दूसरी बात है।

See also  Pak Army Chief's Record - And Why It's So Relevant To India

मनीष तिवारी ने आगे कहा कि दो साल पहले हम ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी को पत्र लिखकर बताया था कि कांग्रेस की परिस्थिति चिंताजनक है जिसपर विचार करने की ज़रूरत है। कांग्रेस की बगिया को बहुत लोगों, परिवारों ने अपने खून से संजोया है। किसी को कुछ मिला वह खैरात में नहीं मिला है।

उन्होंने कहा कि उत्तर भारत के लोग जो हिमालय की चोटी की ओर रहते हैं, यह जज़्बाती, खुददार लोग होते हैं। पिछले 1000 साल से इनकी तासीर आक्रमणकारियों के खिलाफ लड़ने की रही है। को इन लोगों के धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए।


RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments