Sunday, November 27, 2022
HomeBreaking NewsAyodhya: रामलला के भक्तों के लिए खुशखबरी, राम मंदिर निर्माण की Exclusive...

Ayodhya: रामलला के भक्तों के लिए खुशखबरी, राम मंदिर निर्माण की Exclusive तस्वीरें आईं सामने, ऐसा दिखेगा गर्भगृह – Ayodhya Good news Exclusive pictures of Ram temple construction in ayodhya lcl

Exclusive Photos of Ayodhya Ram Mandir: प्रदेश के अयोध्या में चल रहे राम मंदिर निर्माण कार्य की तस्वीरें सामने आई हैं. राम जन्मभूमि मंदिर किस तरह बन रहा है, इसकी ताजा तस्वीरें ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने जारी की हैं. इन तस्वीरों में मंदिर का किस तरह चल रहा है, निर्माण कैसे हो रहा है, इसको प्रदर्शित किया है.

बता दें कि अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि मंदिर आर्किटेक्ट और शैली का अद्भुत संगम , एक बड़ी भूमिका अंतरिक्ष वैज्ञानिकों की भी होगी. इस समन्वय से इस तरह का अद्भुत दृश्य दिखाई देगा, खुद सूर्य देवता रामलला का अभिषेक करते नजर आएंगे. इसी के साथ श्री राम जन्मभूमि परिसर की 70 भूमि में 20 एकड़ पर निर्माण कार्य होगा.

परिसर की 50 एकड़ भूमि पर फैली हरियाली के बीच रामायण कालीन ऐसे देंगे, जिनका उल्लेख वाल्मीकि रामायण में भी मिलता है. लिए भी शोध कार्य चल रहा है कि उस समय के कितने पेड़ पौधों को श्री जन्मभूमि परिसर में उगाया जा सकता है. राम जन्मभूमि मंदिर जब पूरी तरह बनकर तैयार हो जाएगा तो आसपास का दृश्य पूरी तरह अद्भुत और राममय होगा.

राम मंदिर निर्माण की Exclusive जारी.

में रामनवमी को जिस भगवान श्रीराम का जन्म हुआ, समय भगवान सूर्य रामलला का अभिषेक करेंगे. इसके लिए आर्किटेक्ट इस तरह की व्यवस्था कर रहे हैं, जिससे उस समय की सीधे भगवान रामलला मुखारबिंदु यानि मस्तक को प्रकाशित करें. इसीलिए इस काम में आर्किटेक्ट के साथ-साथ अंतरिक्ष वैज्ञानिक भी सहयोग कर रहे हैं.

तक पहुंचेगी सूर्य की रोशनी, तकनीक का लिया जा रहा सहारा

राम जन्मभूमि परिसर में को सूर्य बिल्कुल रहेगा, भी थोड़ा दक्षिण होगा. जो किरण आएगी, थोड़ा दक्षिण आएगी. इस तरह मिरर के जरिए उसको डायवर्ट करके मंदिर अंदर ले जाया जाएगा. का होगा. सीधे लेंस के जरिए गृह में विराजमान रामलला के मस्तिष्क पर डाला जाएगा. इसे ‘सूर्य तिलक’ जाएगा.

See also  Truck And Double Decker Collides In Barabanki 4 People Dead 14 Injured In Up Road Accident - Barabanki Accident: डबल डेकर बस में ट्रक ने मारी टक्कर, दर्दनाक हादसे में चार की मौत, 14 घायल

राम मंदिर निर्माण की Exclusive जारी.

रिसर्च के दौरान अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने यह भी बताया कि 19 साल तक यह सूर्य का पथ बदलेगा नहीं. यानि सूर्य की किरणों को डायवर्ट करने की जो विधि इस्तेमाल की जाएगी, उसमें बदलाव की जरूरत 19 साल बाद ही पड़ेगी. काम में अंतरिक्ष वैज्ञानिक और तकनीकी विशेषज्ञ जुटे हैं.

वृक्ष दिलाएंगे त्रेता युग की याद

राम मंदिर निर्माण की Exclusive जारी.

राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि 70 एकड़ भूमि के अंदर लगभग लगभग 70% हिस्सा अर्थात 50 एकड़ तक हिस्सा हरियाली होगी. वहां कितने वृक्ष हैं, कितने फैमिली के कितने प्रकार के वृक्ष हैं, कौन-कौन से वृक्ष और लगाए जा सकते हैं, वाल्मीकि रामायण में किन किन वृक्षों का वर्णन है, जो अपने यहां उगाए जा सकते हैं, इसकी नर्सरी कहां बनाई जा सकती है , बातों पर चर्चा की जा चुकी है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments