Sunday, December 4, 2022
HomeEducationAnyDesk का इस्‍तेमाल कर रहे हैं संभलिए, बोले IPS सुशील कुमार- साइबर...

AnyDesk का इस्‍तेमाल कर रहे हैं संभलिए, बोले IPS सुशील कुमार- साइबर शिक्षा से ही साइबर सुरक्षा – Be careful using Anydesk, said IPS Sushil Kumar

, गृह मंत्रालय एवं स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग, शिक्षा मंत्रालय के द्वारा निर्गत पत्र के आलोक में समन्वित और व्यापक तरीके से साइबर अपराधों से निपटने के लिए “भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र (l4C)” योजना को लागू कर रहा है। इसे लेकर स्कूल और कॉलेज के छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के बीच जागरूकता के लिए साइबर जागरूकता दिवस छह अक्टूबर से हर महीने के पहले बुधवार को सभी स्कूल, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में मनाया जाना है। एवं एनसीईआरटी ने भी छात्रों के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए साइबर सुरक्षा पर कार्यक्रम आयोजित करने पर बल दिया है। के द्वारा सभी जिलों को इससे संबंधित पत्र भेज दिया है। कई कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

बिहार की सबसे बड़ी प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी टीचर्स ऑफ बिहार के फाउंडर शिव कुमार ने साइबर जागरूकता अभियान के रूप में साइबर मंत्र – ‘साइबर शिक्षा से साइबर सुरक्षा’ नाम से मुहिम की शुरुआत की है। साइबर सुरक्षा और जागरूकता विषय पर टीचर्स ऑफ बिहार के द्वारा आयोजित लेट्स टॉक में साइबर क्राइम एवं आर्थिक अपराध इकाई बिहार के पुलिस अधीक्षक सुशील कुमार (आईपीएस) मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। टॉक को मॉडरेट करते हुए भागलपुर जिले की शिक्षिका नम्रता मिश्रा ने मुख्य अतिथि से साइबर सुरक्षा से जुड़े कई महत्वपूर्ण प्रश्न पूछे।

सुरक्षा के बारे में जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक सुशील कुमार ने कहा कि साइबर सुरक्षा सूचना और संचार प्रौद्योगिकी का सुरक्षित और जिम्मेदार उपयोग है। यह केवल जानकारी को सुरक्षित रखने के बारे में ही नहीं है बल्कि उस जानकारी के प्रति जिम्मेदार होने, ऑनलाइन अन्य लोगों का सम्मान करने और अच्छे नेटिकेट (इंटरनेट शिष्टाचार) का व्यवहार करने के बारे में भी है। कि भारत इंटरनेट का तीसरा सबसे बड़ा उपयोग कर्ता है। इंटरनेट हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है। दैनिक जीवन की अधिकांश पहलुओं को प्रभावित कर रहा है। इंटरनेट का समुचित प्रयोग करना इंटरनेट उपभोक्ताओं के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। साइबर अपराध को रोकने के लिए साइबर सुरक्षा की जानकारी यदि हो तो हम साइबर अपराध की रोकथाम कर सकते हैं।

See also  MP teacher Transfer New Order Issued by School education department | MP टीचर्स ट्रांसफर को लेकर स्कूल शिक्षा विभाग का नया आदेश

सुशील कुमार ने कहा कि साइबर अपराध की रोकथाम से संबंधित दर्शकों के सवालों का जवाब देने के क्रम में बताया कि हमें मुफ्त में उपलब्ध सॉफ्टवेयर से सावधान रहना चाहिए। आंकड़ों या सूचनाओं को साझा करते समय हमेशा सुरक्षित वेबसाइट का प्रयोग करना चाहिए। नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म पर किसी भी व्यक्ति से बातचीत करते समय उसकी प्रामाणिकता की जांच करना चाहिए। अपना ओटीपी, बैंक खाता विवरणी कभी भी किसी अनजान व्यक्ति के साथ साझा नहीं करना चाहिए। स्कैन से बचना चाहिए। में उपलब्ध लिंक को नहीं खोलना चाहिए। स्रोत से प्राप्त ईमेल संलग्न ऐप डाउनलोड नहीं करना चाहिए। भी महत्वपूर्ण संचार साधन या लेनदेन के लिए सार्वजनिक कंप्यूटर अथवा नेटवर्क का उपयोग नहीं करना चाहिए।

पुलिस अधीक्षक सुशील कुमार ने कहा कि मोबाइल उपकरणों में मीडिया फ़ाइलों के स्वतंत्र लोड विकल्प को निष्क्रिय रखना चाहिए। कंप्यूटर में किसी अपरिचित यूएसबी उपकरण को नहीं लगाना चाहिए। छोड़ने से पहले हमें लॉगआउट करना चाहिए। मोबाइल उपकरणों को कभी भी अपरिचित व्यक्तियों के साथ साझा नहीं करना चाहिए। के साथ अपने कंप्यूटर और नेटवर्क को सुरक्षित रखना चाहिए।

संचार के लिए हमेशा समूह के बजाय एकल व्यक्ति को ईमेल भेजना चाहिए। इंटरनेट का उपयोग करते समय हमेशा साइबर सुरक्षा प्रथाओं और सुरक्षा नैतिकता का पालन करना चाहिए। कंप्यूटर या नेटवर्क का उपयोग करते समय पासवर्ड या दस्तावेजों की अन्य संवेदनशील जानकारी को कभी भी संशोधित नहीं करना चाहिए। संदेशों और कॉल्स पर संदेहात्मक व्यवहार अपनाना चाहिए। कभी भी किसी के साथ व्यक्तिगत जानकारी साझा नहीं करना चाहिए। व्यक्तियों से चैट सत्रों के माध्यम से कभी भी फाइलें डाउनलोड नहीं करना चाहिए। इंटरनेट पर आगे बढ़ने के लिए एक्सेप्ट पर क्लिक करने से पहले हमेशा नियम और शर्तें ध्यान से पढ़ना चाहिए। देने का वादा करने वाले मुफ्त ऑनलाइन ऑफर से भी हमें सावधान रहना चाहिए एवं अपने पुराने पासवर्ड का दोबारा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

See also  Chandigarh Girls Hostel MMS : चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी वीडियो मामले में आरोपित छात्रा अरेस्ट, सीएम भगवंत मान ने दिए जांच के आदेश

पुलिस अधीक्षक सुशील कुमार ने कहा कि आजकल AnyDesk (एनीडेस्क) के माध्‍यम से काफी फ्रॉड हो रहा है। इसलिए AnyDesk के इस्‍तेमाल के पूर्व संभल जाएं। AnyDesk से आपके मोबाइल, कंप्‍यूटर व लैपटॉप को आसानी से दूसरे लोग कहीं भी बैठकर ऑपरेट कर लेंगे। आपके ओटीपी सहित मेल, मैसेज, बैंक एकाउंट आदि कहीं भी खोले जा सकते हैं। ऑफ बिहार के प्रदेश प्रवक्ता रंजेश कुमार ने कहा कि आगे भी साइबर अपराध से बचने के लिए जागरुकता अभियान जारी रहेगा।

Edited by: Dilip Kumar Shukla

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments