Friday, September 30, 2022
HomeBreaking News2024 के लिए क्या है देश का सियासी मूड, जानें पीएम मोदी...

2024 के लिए क्या है देश का सियासी मूड, जानें पीएम मोदी को कितना टक्कर दे पाएगा विपक्ष – lok sabha electionn 2024 what is mood of the nation pm modi against opposition nitish kumar rahul gandhi congress bharat jodo yatra opposition parties

: लोकसभा चुनाव में अभी 18 महीने का वक्त बचा है लेकिन देश में बीजेपी के साथ ही विपक्ष भी तैयारियों में जुट गए हैं। विपक्ष के पास पीएम मोदी की टक्कर का नेता है। एबीपी न्यूज ने देश के सियासी मूड को लेकर सर्वे किया। देश का सियासी मूड को लेकर सर्वे में सवाल पूछा गया कि क्या नीतीश कुमार विपक्ष को एकजुट करने में कामयाब होंगे। सवाल के जवाब में 56 प्रतिशत लोगों ने नहीं कहा। , इसे सत्ता की भूख बता रही है। दूसरी तरफ, लोगों का मानना ​​​​ कि नीतीश कुमार के विपक्षी दल का नेता बनने पर बीजेपी को फायदा होगा। सर्वे में 53 प्रतिशत लोगों ने कहा कि नीतीश कुमार के पीएम पद का उम्मीदवार बनने से बीजेपी को फायदा होगा।

जोड़ो यात्रा से कांग्रेस को फायदा होगा?
में सवाल पूछा गया कि क्या कांग्रेस को भारत जोड़ो यात्रा से फायदा होगा। इस सवाल के जवाब में 50 प्रतिशत लोगों ने कहा कि इससे कांग्रेस को फायदा होगा। वहीं, दूसरी तरफ 50 फीसदी लोगों ने कहा कि इससे फायदा नहीं होगा। , पार्टी का यदि बाहर से कोई अध्यक्ष बनेगा तो इसका फायदा होगा? इस सवाल के जवाब में 64 प्रतिशत लोगों ने कहा कि यदि गांधी परिवार से बाहर कांग्रेस अध्यक्ष होगा तो इससे पार्टी का फायदा होगा।

मिशन राजस्थान पर शाह : विपक्ष अभी टीम जोड़ ही रहा और बीजेपी ने 2024 के लिए फील्डिंग सजा दी
2024 लिए चुनौती बनेंगे केजरीवाल?
में जब लोगों से पूछा गया कि क्या अरविंद केजरीवाल पीएम मोदी के लिए चुनौती बनेंगे। इस सवाल के जवाब में 67 फीसदी लोगों ने कहा कि हां, केजरीवाल पीएम मोदी के लिए चुनौती बनेंगे। जबकि 23 फीसदी लोगों ने कहा कि पीएम मोदी के लिए केजरीवाल चुनौती नहीं बनेंगे। इस को लेकर पॉलिटिकल एक्सपर्ट का भी मानना ​​​​ कि अरविंद केजरीवाल का जो तौर तरीका है, वो बिल्कुल पीएम मोदी जैसा है। राजनीतिक पंडितों का मानना ​​​​ कि अरविंद केजरीवाल भी बीजेपी ट्रोल आर्मी की तरह हवा बनाने में कामयाब रहते हैं।
navbharat times‘हल्ला बोल’ में आगे राहुल आखिर कांग्रेस में पीछे क्यों छिप रहे? की वजह ?
मदरसो का सर्वे सही या गलत?
में मदरसों का सर्वे को लेकर भी सवाल किया गया। में मदरसों का सर्वे होना चाहिए? इस सवाल के जवाब में 69 फीसदी लोगों ने कहा कि हां, सर्वे होना चाहिए। 31 फीसदी लोगों ने कहा कि मदरसों का सर्वे नहीं होना चाहिए। वहीं, यूपी में मदरसों के सर्वे को लेकर कांग्रेस ने कहा कि सर्वे चाहिए लेकिन इसके पीछे नीयत क्या है, यह जरूरी है। प्रवक्ता अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा कि सरकार को नेकनीयती से काम करना चाहिए।

See also  मां-बाप पढ़ाई के लिए डांटते थे, जेल जाने के लिए दोस्त का गला रेत दिया | failed twice in 10th, slit his throat to go to jail; read confession

navbharat timesNitish Kumar को दिल्ली से दूर करेंगे ‘RAM’, 2024 से पहले बिहार CM को ‘साइड’ करने का बन चुका है फूल प्रूफ प्लान!
सर्वे से बीजेपी को फायदा होगा?
की तरह देशभर में मदरसों का सर्वे होने चाहिए? इस सवाल के जवाब में 75 प्रतिशत लोगों ने कहा कि हां, देश में यूपी की तर्ज पर मदरसों का सर्वे होना चाहिए। , 25 लोग खिलाफ थे। के सर्वे से बीजेपी को फायदा होगा। इस सवाल के जवाब में 60 प्रतिशत लोगों ने कहा कि हां, इससे बीजेपी को फायदा होगा। इससे साफ साबित होता है कि मदरसों के सर्वे का सीधा-सीधा राजनीतिक रूप से फायदा उठाने की विपक्ष की बात सही साबित हो रही है।

के मुद्दों पर भारी पड़ेगा मोदी फैक्टर
चुनाव में जाति धर्म के मुद्दों पर मोदी फैक्टर भारी पड़ेगा। इस सवाल को के जवाब में 60 फीसदी लोगों ने पीएम मोदी के पक्ष में जवाब दिया। 60 फीसदी लोगों ने कहा कि हां पीएम मोदी का फैक्टर जाति-धर्म के मुद्दों पर भारी पड़ेगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments