Thursday, September 29, 2022
HomeBreaking Newsसोरेन बोले- मैं आंदोलनकारी का बेटा हूं, न डरा हूं और ना...

सोरेन बोले- मैं आंदोलनकारी का बेटा हूं, न डरा हूं और ना डराऊंगा; BJP विधायकों का हंगामा | MLAs of Mahagathbandhan reached Ranchi from Raipur; attend a special session

रांचीमिनट पहले:

में एक दिन के विशेष सत्र की कार्यवाही जारी है। विश्वास प्रस्ताव पेश किया गया है। हेमंत सोरेन विधानसभा में अपना विश्वास मत रख रहे हैं। कि विपक्ष इस प्रस्ताव को पूरा सुनें। बाहर जाएं। ने कहा कि मैं आंदोलनकारी का बेटा हूं। वाला हूं। हूं और ना ही किसी को डराऊंगा।

बीजेपी ने एक सर्वे भी करा लिया है कि 2024 में इनका सूपड़ा साफ होने वाला है। इसलिए ये सरकार को येन-केन तरीके से सरकार को अस्थिर करना चाहते हैं। तीन सदस्य बंगाल में हैं। इन विधायकों के खरीद-फरोख्त करने का आरोप असम के मुख्यमंत्री हेमंत विश्व सरमा को जाता है। की पुलिस को ये जांच में मदद तक नहीं करते हैं।

सदस्यता पर सीएम ने कहा कि हमारी सदस्यता पर हाय-तौबा मची हुई है। समरी लाल का क्या है। की अनुशंसा ईसी को भेजा हुई है। विपक्ष में दो-तीन तो बिकाऊ विधायक बैठा है। 25 अगस्त से इस राज्य में ऐसा वातावरण तैयार किया जाता है इलेक्शन कमीशन और राज्यपाल के द्वारा।

है हमने अपना मंतव्य दे दिया है। हो हैं। s प्रतिनिधमंडल से वे स्वीकार करते हैं कि चिट्ठी मिली है। में करेंगे। के पिछले दरवाजे से निकल कर दिल्ली में बैठे हैं। कानून कहता है कि ईसी के परामर्श को सरकार से अवगत कराना है। में अस्थिरता की स्थिति बनाए हैं। वजह से ये सत्र लाया गया है कि देख लो सदन में हम कितने मजबूत हैं। बाहर कितने मजबूत हैं।

को बेच रही भाजपा-

हम आजादी का 75वां वर्ष मना रहे। तरीके से घरों में तिरंगा लगाने का एजेंडा बनाया गया। की तरफ से तिरंगा बेचने का एजेंडा फिक्स किया गया। ने तो कोई कसर नहीं छोड़ी। ये देश को बेचने के साथ-साथ झंडा बेचना शुरू कर दिया। कभी तिरंगा झंडा तो फहराया नहीं, लेकिन लोकतंत्र को बेचने के लिए 2014 से लगातार प्रयासरत हैं। तिरंगा बेचने के बयान पर बीजेपी विधायकों ने वेल में आकर हंगामा किया।

इस सरकार को हर तरह से बदनाम करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है। आज के दिन भी जो आजादी के पहले की मनुवादी की सोच रही है उसको बढ़ावाा दिया जा रहा है। लोकतंत्र और संविधान की कसम खाते हैं। ये वहीं पर हिंदू-मुस्लिम का नारा लगाकर देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं।

See also  Priyanka Gandhi Vadra tests positive for COVID-19, second time in two months-India News , Firstpost

सदन के शुरुआत में सोरेन ने कहा- भाजपा राज्यों में गृहयुद्ध के हालात बना रही
सदन में हेमंत सोरेन ने कहा- विपक्ष ने तंत्र को खत्म कर दिया है सिर्फ लोक बचा है। बचाना हमारी सरकार की प्राथमिकता है। के आधे राज्यों में गृह युद्ध की स्थिति बना रही है। , सब्जी और राशन को खरीदना सुना था, बीजेपी विधायक खरीद रही है।

मुस्लिम तुष्टिकरण में सरकार जुटी है- सिंह

सदन में बीजेपी के विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा ने कहा- ना ही कोर्ट ओर से, ना ही राज्यपाल ने बहुमत साबित करने को कहा, फिर सरकार विश्वासमत क्यों लाना चाहती है। से सीएम विधायकों को लेकर जिस तरह से घूम रहे हैं। है कि उन्हें अपने ही विधायकों पर भरोसा नहीं है। तुष्टिकरण में लगी है। राज्य की बेटियों पर अत्याचार हो रहा है, लेकिन सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ता है।

विधायक सीपी सिंह सदन में सीएम के व्यवहार पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि सीएम ने सदन में प्रवेश के साथ ही बीजेपी पर हमला बोल दिया। साथ ही कहा कि मैं खुद भी स्पीकर रह चुका हूं, ऐसे में कोई विधानसभा अध्यक्ष गलत करेंगे तो मैं चुप नहीं बैठूंगा।

बाहर बीजेपी विधायकों का हंगामा।

गूंजी 1932 खतियान की मांग

JMM विधायक सुदिव्य ने कहा 1932 के खतियान को आधार बनाकर स्थानीयता लागू की जाए। 32 की आग को जो छूएगा जलकर राख हो जाएगा। एक ही पहचान 1932 खतियान। 1985 स्थानीयता बनाकर ये लोग झारखंडियों और बाहरियों को एक साथ खड़ा कर दिया। झारखंडी नौजवान आज चाहता है कि स्थानीयता का कट ऑफ मार्क 1932 लागू हो।

सीएनटी-एसपीटी और विल्किंसन एक्ट देकर हमारे अधिकार को सुरक्षित रखा गया है। सीएनटी-एसपीटी एक्ट के बावजूद झारखंडियों की जमीनों को बेचा गया। 21 सालों में इनलोगों ने झारखंड की डेमोग्राफी को बदल दिया।

विधायक बिनोद सिंह ने अपनी ही सरकार पर हमला किया। स्थानीय नीति पर सवाल उठाते हुए कहा कि आपने जो नियोजन नीति बनाई है, उससे यहां के युवाओं को ही नुकसान हो रहा है। ️

See also  Dhar News: मध्य प्रदेश के धार जिले में डैम फूटने का खतरा 18 गांव कराए खाली सेना तैनात

ओल्ड पेंशन स्कीम लागू की-

कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय ने कहा झारखंड सरकार में अस्थिरता पैदा करने वाले असमंजस में हैं। भर से दिल्ली में क्या कर रहे हैं। हो रही है तो आगे क्या होगा। और राज्य के भाजपा के नेता हैं वो राजनीति षडयंत्र करने में व्यस्त हैं। ने ओल्ड पेंशन स्कीम को लागू करने का काम किया। 1.5 कर्मचारियों के हितों की रक्षा की।

के विधायक रविवार को रांची लौटे, भाजपा ने उठाया सवाल

ने सत्ताधारी विधायकों के छत्तीसगढ़ जाने पर सवाल उठाए हैं। बता दें कि ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामले में चुनाव आयोग की चिट्ठी मिलने के 11 दिन बाद भी राज्यपाल का कोई आदेश नहीं आया है,लेकिन राज्य की राजनीति में उथल-पुथल मची हुई है। हेमंत सोरेन ने अपने 32 विधायकों को एकजुट करने के लिए 30 अगस्त को रायपुर भेजा था। को रांची लौट आए थे। हाउस से बस में सवार होकर विधानसभा पहुंचे।

विधायकों के साथ सीएम सोरेन।  के लिए निकलने से पहले सीएम ने विधायकों के साथ बैठक भी की।

विधायकों के साथ सीएम सोरेन। के लिए निकलने से पहले सीएम ने विधायकों के साथ बैठक भी की।

1662354266

अपने विधायकों पर हेमंत को नहीं भरोसा- भाजपा

के बाहर बीजेपी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा कि नियमों का उल्लंघन करके विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया है। में इसका विरोध करेंगे। कहा कि बस में बैठकर खुद सीएम सोरेन विधायकों को एयरपोर्ट तक ले गए। डायरेक्टर प्लेन तक गए। भी विधायकों को कड़ी सुरक्षा में कैदियों की तरह रखा। आने पर भी सर्किट हाउस में कड़ी सुरक्षा में रखा। हेमंत सोरेन ऐसा व्यवहार कर रहे हैं, मानो उन्हें अपने विधायकों पर भरोसा नहीं है।

comp 1 13 1662344650

सबसे बड़ा दांव चल सकती है सोरेन सरकार

चर्चा है कि संकट में घिरी सोरेन सरकार सदन में अपना मास्टर स्ट्रोक चल सकती है। गठन के बाद से अब तक सबसे विवादित मुद्दा रहा स्थानीयता नीति को सदन में हेमंत सोरेन कर सकती है अगर ऐसा होता है राज्य की सियासत नया नया उबाल तय माना जा रहा है। झारखंड विधानसभा के स्पीकर ने भी यह बात स्वीकार की है कि सदन में विश्वास मत पेश हो सकता है । अन्य एजेंडों पर फिलहाल स्पष्ट जानकारी नहीं दी गई है।

See also  In Bareilly, Two Police Personnel Were Shot In A Fight At The Police Station, Five Suspended Including Officers - बरेली : महिला पुलिसकर्मी से दोस्ती को लेकर भिड़े दो कॉन्सटेबल, थाने में चलाई गोली

को भी सोरेन ने कहा था कि विपक्ष अपनी षड्यंत्रकारी नीतियों में खुद ही फंस जाएगा। होने में कुछ घंटे बाकी है। पास कोई मुद्दा नहीं बचा है।

11 2 1662345393

मत पेश करने के पीछे की पूरी कहानी

की केजरीवाल सरकार के सामने भी झारखंड जैसा ही संकट था। जा रहा था कि उनके कुछ विधायकों को भी तोड़ने का प्रयास किया जा रहा था। आम आदमी पार्टी के विधायकों ने दावा किया था कि इसके लिए 20-20 करोड़ रुपए की पेशकश की गई थी।ऐसें में केजरीवाल ने विश्वास मत प्रस्ताव लाकर सदन में MONKEY के भीतर एकजुटता का संदेश दिया था। एकजुटता का संदेश हेमंत सोरेन झारखंड में देना चाहते हैं।

1662350177
1662351665

कांड के बाद बिगड़ा खेल

RPN सिंह की प्लानिंग लगभग पूरी तरह लागू भी हो गई थी, लेकिन इससे ठीक पहले कांग्रेस के तीन विधायक इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और नमन विक्सल कोंगाड़ी कैश के साथ कोलकाता में धरे गए। टूट का खेल बिगड़ गया। कांग्रेस के प्रभारी ने उन्हें इस पूरे खेल का खुलासा करने के लिए कहा, लेकिन जब उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया तो अब पार्टी उनके खिलाफ एक्शन लेने के मोड में है। पर भी तलवार लटक सकती है।

1 1662337759

खनन पट्टे का मामला?

10 फरवरी को पूर्व CM रघुवर दास के नेतृत्व में BJP के एक डेलिगेशन ने गवर्नर से मुलाकात की थी। BJP ने राज्यपाल से CM सोरेन की सदस्यता रद्द करने कि मांग की थी। BJP ने आरोप लगाया था कि CM सोरेन ने पद पर रहते हुए रांची के अनगड़ा में 88 डिसमिल पत्थर माइनिंग लीज लिया है। BJP का आरोप है कि यह लोक जनप्रतिनिधित्व अधिनियम (RP) 1951 की धारा 9A का उल्लंघन है। गवर्नर ने BJP की यह शिकायत चुनाव आयोग को भेजी।

3 1662337769

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments