Wednesday, November 30, 2022
HomeEducationसबको नौकरी कहां से मिलेगी? पढ़ें मोहन भागवत ने ऐसा क्यों कहा-...

सबको नौकरी कहां से मिलेगी? पढ़ें मोहन भागवत ने ऐसा क्यों कहा- और अब क्या है ऑप्शन

में आयोजित संघ के दशहरा कार्यक्रम में सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि सुरक्षा के मामले में हम आत्मनिर्भर हो रहे हैं. का चाहिए. को भोले मन से स्वीकार ना करें.

मोहन भागवत ने नागपुर आरएसएस के दशहरा कार्यक्रम को संबोधित किया.

Image Credits Source: Twitter

हमें कोशिश करनी चाहिए कि हमारे मित्रों में सभी जातियों एवं आर्थिक समूहों के लोग हों, ताकि समाज में और समानता लाई जा सके. पीछे सब भागेंगे तो कहां से होगा. हो और घर के क़रीब हो तो और अच्छा. कहां से मिलेगी? तरफ़ पड़ेगा. अप को बढ़ावा दे रही है. इस दिशा में ध्यान रखना है..

बातें बुधवार को दशहरे के मौके पर स्वयंसेवक संघ मोहन भागवत ने कही. आरएसएस ने नागपुर के रेशमबाग मैदान में दशहरे के मौके पर कार्यक्रम आयोजित किया था. प्रमुख भागवत इस दौरान कहा कि महिला पुरुष में अंतर नहीं है. घर पर बंद करना ठीक नहीं. का है. भागवत ने कहा है कि की अर्थव्यवस्था हो रही है. रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध में भारत के की दुनिया में तारीफ हो रही है. भारत में बात सुनी जा रही है. प्रतिष्ठा है.

कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के में हम हो रहे हैं. का आवश्यक रूप से विरोध होना चाहिए. को भोले मन से स्वीकार ना करें. कहा कि सामान्य लोग भी अब हमारे राष्ट्रीय पुनरुत्थान की प्रक्रिया अनुभव कर रहे हैं. जब हम अपने प्यारे देश भारत को ताकत, और अंतरराष्ट्रीय ख्याति में करते देखते हैं, तो हम सभी एक उत्साह की भावना हैं.

See also  Pratik Gandhi, Avika Gor's film is a hilarious take on sex education

:

प्रमुख मोहन भागवत ने मंगलवार को कार्यक्रम के दौरान यह भी कहा कि देश के विकास लिए सनातन और बदलाव जरूरी हैं. नए साथ हैं. से है. आपस दूरियां हैं. देश में अराजकता फैला रहे हैं. कि जो सब काम कर सकती है, वो सभी काम पुरुष नहीं कर सकते हैं. की यह शक्ति है और इसलिए उनका सशक्तिकरण करना और उनको काम करने की स्वतंत्रता देना और कार्यों में बराबरी की सहभागिता देना अहम है.

कहा कि हमें कोशिश करनी चाहिए कि हमारे मित्रों में सभी जातियों एवं आर्थिक के लोग , समाज में और समानता लाई जा सके. जनसंख्या नीति व्यापक सोच-विचार के बाद तैयार की जाए और सभी पर समान रूप से लागू हो. कोई चाहता है कि नई शिक्षा नीति छात्रों को अच्छा इंसान और उनमें देशभक्ति की भावना पैदा करने में मदद करे.

के प्रति सचेत रहना होगा: प्रमुख

मोहन भागवत ने कहा है कि देशों के समूह में का महत्व और कद बढ़ गया है. क्षेत्र में हम अधिकाधिक आत्मनिर्भर होते जा रहे हैं. कहा कि संघ में, अपने कार्यक्रमों में बौद्धिक और महिला मेहमानों करने की एक पुरानी परंपरा है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और राष्ट्र द्वारा ‘व्यक्तित्व निर्माण’ की शाखा पद्धति अलग-अलग संचालित की जा रही है. के विकास की प्रक्रिया बाधाओं पर काबू पाने की जरूरत है. ने कहा, ‘एक बाधा रूढ़िवाद है! वर्तमान समय और राष्ट्र के साथ तालमेल बैठाने वाली नई परंपराओं को तैयार करना होगा, साथ ही हमें अपने सनातन मूल्यों के प्रति सचेत रहना होगा.’

भागवत ने कहा है कि परिवर्तन को अपनाना है लेकिन सनातन के साथ चलना है. , मेरे की पवित्र भूमि पर जन्मी है. लेकर तक. सब भारतीयों की जिम्मेदारी है कि सनातन संस्कृति उद्घोष, इसका प्रचार पूरे में, जागृत अवस्था साथ अपनाएं मानवकल्याण के लिए इसके प्रचार चाहिए.

See also  Shrikant Tyagi Caught On Cctv In Haridwar, Mobile Switched Off-on More Than 12 Times - Shrikant Tyagi Case: श्रीकांत त्यागी यहां हुआ सीसीटीवी में कैद, एक दर्जन से ज्यादा बार मोबाइल स्विच ऑफ-ऑन हुआ

दुश्मनी फैलाने का काम चल रहा: प्रमुख

प्रमुख ने कार्यक्रम में कहा कि समाज के वर्गों में स्वार्थ और के आधार और दुश्मनी का काम स्वतंत्र भारत में भी है. बहकावे में न फंसते हुए, उनकी भाषा, , , कोई भी हो. निर्भयतापूर्वक उनका निषेध व प्रतिकार करना चाहिए. प्रकार की बाधाएं जो सनातन धर्म हैं, उन ओर से बनाई गई हैं, जो भारत की एकता और प्रगति के हैं. नकली आख्यान हैं, अराजकता को प्रोत्साहित करते हैं, आपराधिक कृत्यों में होते हैं, आतंक, संघर्ष और सामाजिक अशांति को भड़काते हैं.

भी पढ़ें



में आयोजित हुए कार्यक्रम के पथ संचालन, स्वयंसेवकों के मार्च और बुधवार स्मारक भारी भीड़ मद्देनज़र शहर भर में सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए हैं. इस दौरान चार हजार को तैनात किया है. के स्वयंसेवकों द्वारा सुबह निकाले जाने वाली दो दशहरा रैलियों के मार्गों पर कम से कम हजार पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments