Thursday, September 29, 2022
HomeEducationविनम्र रहने की सीख देती शिक्षा - विनम्र रहने की सीख देती...

विनम्र रहने की सीख देती शिक्षा – विनम्र रहने की सीख देती शिक्षा

Author: jagranRelease date: Sun, Aug 21, 2022 4:44 PM (IST)Date Updated: Sun, Aug 21, 2022 4:44 PM (IST)

की सीख देती शिक्षा

संवाद सहयोगी, साहिबगंज : नार्थ कालोनी स्थित तारा मंदिर में चल रहे कथा के पांचवें दिन शनिवार को प्रभु प्रिया रामायणी ने जन्म का वृतांत सुनाते हुए कि पुत्र की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। कहा, आज मेरे यहां एक नहीं चार-चार पुत्र आए हैं। में खुशियां छा गई। को देखने के लिए शिवजी काक भुसुंडी सहित आए। जब बड़े हुए तो गुरुकुल पढ़ने गए। गए पढ़न रघुराई अल्प काल विद्या सब आई। उठई के रघुनाथा मात पिता गुरु नावहिं माथा। आजकल के बच्चे स्कूल तो जाते हैं परंतु माता-पिता व गुरु को प्रणाम नहीं करते हैं। में शर्म आती है। शास्त्र हमें यही ज्ञान देते हैं कि हमेशा झुक कर विनम्र रहना चाहिए। चारों भाई जब 11 वर्ष के हुए तो विश्वामित्र अपने यज्ञ की रक्षा के लिए अपने आश्रम ले गए। यहां भगवान ने राक्षसी ताड़का का उद्धार किया और यज्ञ सफल होने के बाद जब विश्वामित्र और राम धनुष यज्ञ में जा तो रास्ते में अहिल्या का उद्धार किया जो कि गौतम ऋषि की पत्नी थी। कार्यक्रम को सफल बनाने में कमल किशोर साह, शिव कुमार यादव, सुनील यादव, मुन्ना गोस्वामी, वापी, श्रीनिवास यादव, रामनिवास यादव आदि सक्रिय थे।

Edited by: jagran

See also  iPhone 13 और iPhone SE मॉडल्स पर मिल रहा है भारी डिस्काउंट, मिल रही 9,000 रुपये की छूट
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments