Sunday, November 27, 2022
HomeEducationवाराणसी के सेवापुरी ब्लाक का 'निपुण भारत मिशन' बनेगा माडल, बेसिक शिक्षा...

वाराणसी के सेवापुरी ब्लाक का ‘निपुण भारत मिशन’ बनेगा माडल, बेसिक शिक्षा महानिदेशक ने टीम अध्ययन-अध्यापन को परखा

: बेसिक शिक्षा परिषद के महानिदेशक विजय किरण आनंद मानव संसाधन विकास मंत्रालय की पूर्व सचिव बृंदा स्वरूप व अकादमिक संस्था एलएलएफ (लर्निंग एवम लैंग्वेज गुरुवार को नीति आयोग के माडल ब्लाक सेवापुरी पहुंचे। ब्लाक के बेसहुपुर व मटुका गांव के कंपोजिट विद्यालय का निरीक्षण कर बच्चों व शिक्षकों से बात कर अध्ययन-अध्यापन को परखा।

ने निपुण भारत के तहत तैयार की गई पुस्तकों व पढ़ाई के तरीके की जानकारी ली। स्कूल में बैठकर कक्षा एक से तीन तक के बच्चों से पढ़ाई को लेकर सवाल-जवाब किए। से यह भी जानकारी ली कि नई शिक्षा नीति के तहत तैयार पाठ्यक्रम को पढ़ाने और बच्चों को सरलता से समझने में कोई दिक्कत तो नही आ रही है। पाठ्यक्रम को सरल बताया। पठन- पाठन के तौर तरीके देख अधिकारियों ने कहा कि सेवापुरी ””निपुण भारत मिशन”” का माडल बनेगा।

नई शिक्षा नीति तहत कक्षा एक से तीन तक के बच्चो को पुस्तकें उपलब्ध कराकर ज्ञान दिया जा रहा है। उत्तर प्रदेश पहला राज्य है, जहां एलएलएफ (लर्निंग एवमं लैंग्वेज फाउंडेशन) मिशन शुरू किया गया है। तहत कक्षा दो व तीन के लिए नई पुस्तक तैयार की गई है। पुस्तकों को पढ़ाने और समझने में किसी प्रकार की दिक्कत तो नही आ रही, यह जानने के लिए टीम सेवापुरी पहुंची थी।

कंपोजिट विद्यालय बेसहूपुर के प्रधानाचार्य अशोक कुमार व शिक्षकों ने अफसरों की टीम को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। पर डा. , चटर्जी, श्वेता शर्मा और रवि श्रीधरन, शिक्षा अधिकारी वाराणसी डा. आदि रहे। पूर्व बेसिक शिक्षा महानिदेशक ने अफसरों के साथ विकास भवन में बैठक की। कमिश्नर दीपक अग्रवाल व डीएम कौशल राज शर्मा व सीडीओ अभिषेक गोयल व शिक्षा विभाग के अधिकारी मौजूद रहे।

See also  Osmania University offers admissions for PG courses in distance mode

एलएलएफ से जुड़े अफसरों ने कहा कि कोविड के कारण हुए लर्निंग लास को और भी कम करने की आवश्यकता है। मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि जनपद में शिक्षकों का प्रशिक्षण इस प्रकार कराया जा रहा है कि एक वर्ष में कम से कम 100 घंटे अध्यापन पर दें। इसके साथ ही रोड सेफ्टी, बाल संसद, सामाजिक सहयोग, जेंडर इक्विटी सहित तमाम मुद्दों पर प्रशिक्षण कराया जा रहा है। कमिश्नर ने शहरी क्षेत्र के विद्यालयों को कायाकल्प की दृष्टि से और भी सुदृढ़ करने की आवश्यकता पर बल दिया। मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक अवध किशोर सिंह किया।

Edited by: Saurabh Chakravarty

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments