Sunday, September 25, 2022
HomeEducationरिजर्वेशन को जिम्मेदारी समझें, बोझ नहीं, आखिर शिक्षा मंत्री ने ये बात...

रिजर्वेशन को जिम्मेदारी समझें, बोझ नहीं, आखिर शिक्षा मंत्री ने ये बात क्यों कही?

नीट-यूजी टॉपर तनिष्का राजस्थान की रहने वाली हैं. वह OBC (नॉन-क्रीमी लेयर श्रेणी) के अंतर्गत आती हैं.

मंत्री प्रधान

Image Credits Source: File Photo

शिक्षा मंत्री प्रधान एजुकेशन में रिजर्वेशन को सही ठहराया है. मंत्री ने कहा कि नई पीढ़ी को हाशिए पर मौजूद समुदायों के लिए रिजर्वेशन को बोझ के बजाय अपनी जिम्मेदारी के रूप में समझना चाहिए. ने कहा कि संविधान सभा में बहस के बाद देश के लोगों ने सकारात्मक कार्रवाई अपनाने का फैसला किया. किया कि भारत को ऐतिहासिक रूप से वंचित समूहों को समान अवसर मुहैया कराना चाहिए. मंत्री ने ये बातें राजस्थान के कोटा में एक निजी कोचिंग के कार्यक्रम में कहीं.

संयोग से नीट-यूजी रिजल्ट का भी ऐलान हुआ है. यहां गौर करने वाली बात ये है कि नीट-यूजी टॉपर तनिष्का राजस्थान की रहने वाली हैं. वह OBC (नॉन-क्रीमी लेयर श्रेणी) के अंतर्गत आती हैं. वहीं, टॉप 50 स्टूडेंट्स की लिस्ट में कुल सात उम्मीदवार ओबीसी-एनसीएल की कैटेगरी के हैं. इस साल क्वालिफाई करने वाले नीट-यूजी उम्मीदवारों के कैटेगरी वाइज ब्रेक-अप से पता चलता है कि 13.3 फीसदी अनुसूचित जाति, 45.08 फीसदी ओबीसी और 4.7 फीसदी अनुसूचित जनजाति से हैं, जबकि पिछले साल ये क्रमश: 13.1 फीसदी, 4.6 फीसदी और 45.6 फीसदी .

ने क्या कहा?

प्रधान ने कहा, ‘आपके टॉयलेट की सफाई कौन करता है? करते ? में प्रधानमंत्री ने किसके पैर धोए? कर्मचारी . हमारे वॉशरूम को साफ करते और हम अछूत कहते हैं. से ऐसा करते आ रहे हैं. अब जबकि पिछले 75 सालों में हमने उन्हें सकारात्मक कार्रवाई के माध्यम से सहायता प्रदान की है, तो अब हम उस पर सवाल उठा रहे हैं?’ दरअसल, कार्यक्रम के दौरान कुछ स्टूडेंट्स ने रिजर्वेशन पर सवाल उठाए और कहा जनरल कैटेगरी के स्टूडेंट्स के लिए घाटे का सौदा है. शिक्षा ने दिया.

See also  Making Girls, Boys Sit Together In Classroom Will Not Lead To Gender Equality: K Muraleedharan

भी पढ़ें



ने हायर एजुकेशन प्रोग्राम में रिजर्वेशन प्रदान करने के पीछे औचित्य को समझाने का प्रयास भी किया. इस बात पर भी जोर दिया कि पारिस्थितिकी की रक्षा में भूमिका के बावजूद सदियों से आदिवासियों के साथ भेदभाव कैसे किया जाता रहा है. मंत्री ने कहा, ‘आज दुनिया जलवायु परिवर्तन को लेकर चिंतित है. की से हैं. को किसने सुरक्षित रखा? . उन्हें यह कहकर पीछे कर दिया कि तुम पिछड़े हो क्योंकि जंगल में रहते हो. उन लोगों के साथ भेदभाव जिन्होंने दुनिया को रखा. क्या हमें उनका हाथ पकड़कर पालन-पोषण नहीं करना चाहिए?’

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments