Sunday, December 4, 2022
HomeEducationरईस देश में भी पैरेंट्स को नहीं लगता कि वे बच्चों की...

रईस देश में भी पैरेंट्स को नहीं लगता कि वे बच्चों की उच्च शिक्षा का खर्च उठा पाएंगे | Parents in UAE are paying 40% income in school fees

धाबी15

  • लिंक

से परेशान हैं और इस खौफ में हैं कि आप अपने बच्चों की उच्च शिक्षा का खर्च उठा पाएंगे या नहीं तो आप अकेले नहीं हैं। जैसे रईस माने जाने वाले देश के पैरेंट्स भी आने वाले समय में उच्च शिक्षा पर होने वाले खर्च के लिए चिंतित हैं।

यूएई में हुए एक सर्वे के मुताबिक, 66% पैरेंट्स इस बात के लिए आश्वस्त नहीं हैं कि वे अपने बच्चों की उच्च शिक्षा का खर्च उठा पाएंगे। अभी यूएई में 80% लोग अपनी आय का औसतन 40% बच्चों की पढ़ाई पर खर्च कर रहे हैं।

महंगाई कम फिर भी पढ़ाई की चिंता
की पढ़ाई और घर खर्च के बाद बचे पैसे को सिर्फ बच्चों की उच्च शिक्षा को ध्यान में रखकर निवेश कर रहे हैं। महंगाई दर दूसरे देशों से काफी कम है। इसके लोग अपने बच्चों को उच्च शिक्षा दिला पाने के लिए फिक्रमंद हैं। सर्वे में सिर्फ 34% पैरेंट्स ने कहा कि वे अपने बच्चों की उच्च शिक्षा का खर्च उठाने में सक्षम हैं।

15% एजुकेशन लोन ले रहे
यूएई में 50% लोगों की औसत आय 4 लाख रुपए से कम है। भी करीब डेढ़ लाख रुपए के आसपास बच्चों की स्कूल फीस, , किताबें आदि में खर्च हो रहे हैं। जबकि ग्रेजुएशन स्तर पर ही हर साल 10 से 15 लाख रुपए और पोस्ट ग्रेजुएशन स्तर पर 12 से 17 लाख रुपए सालाना खर्च होता है। दर को जोड़ दें तो यह और ज्यादा होती है। सर्वे में यह भी पता चला कि 39% पैरेंट्स बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए अधिकतम निवेश कर रहे हैं, जबकि 15% लोग लोन लेकर बच्चों की उच्च शिक्षा पूरी कराने की बात कर रहे हैं।

कहते पेरेंट्स पेरेंट्स

  • दो बच्चों के पिता आदिल एश्चक कहते हैं, मैं बच्चों की पढ़ाई के लिए निवेश कर रहा हूं। के बाद निवेश के लिए ज्यादा पैसे बचते नहीं हैं। इसलिए बच्चों की उच्च शिक्षा तभी संभव है, जब निवेश पर रिटर्न ज्यादा मिले। इसलिए एफडी, बॉन्ड, स्टॉक मार्केट, प्रॉपर्टी और म्यूचुअल फंड में निवेश किया है।
  • दो बच्चों के पिता रियाज मोहम्मद कहते हैं, बच्चों की पढ़ाई के लिए कुछ पैसे बैंक में हैं, लेकिन भविष्य के लिए मैं बहुत जोड़ नहीं पा रहा हूं। दोनों बच्चों की पढ़ाई के लिए मैं कुछ न कुछ तो कर ही लूंगा।
  • इंटरनेशनल लाइफ के प्रमुख रेनर ब्रिटो कहते हैं, यूएई में पैरेंट्स बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए ज्यादा जागरूक हुए हैं। की शिक्षा के लिए निवेश कर रहे हैं। काफी महंगे होते जा रहे हैं। ऐसे में छोटी-छोटी बचत का नियमित निवेश ही 10-20 सालों में शिक्षा का खर्च उठाने की हालत में पहुंचेंगे।

पैरेंट्स के पास रिटायरमेंट तक के लिए बचत की कोई योजना नहीं है
यूएई में चार लाख महीना कमाने वाले परिवारों के पास निवेश तो है, लेकिन बचत नहीं। बच्चों की उच्च शिक्षा है। पैरेंट्स अपने बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए खर्च से बचे पैसों का निवेश कर रहे हैं, ताकि उनके निवेश से इतना रिटर्न मिल जाए कि बच्चों की पढ़ाई हो सके। परिवारों के पास आपात खर्च के लिए कोई बचत नहीं है। इनके पास खुद के रिटायरमेंट बाद की जिंदगी के लिए भी कोई निवेश प्लान नहीं है।

See also  Teachers at ex-Tory minister’s academy chain set to strike | Academies
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments