Sunday, December 4, 2022
HomeEducationये है असली सरोकार, वायु सेना का जवान भिवानी का नेत्रपाल बच्चों...

ये है असली सरोकार, वायु सेना का जवान भिवानी का नेत्रपाल बच्चों को दे रहा निशुल्‍क शिक्षा और संस्कार

Author: Suresh MehraPublication date: Sat, 08 Oct 2022 17:26 (IST)Updated Date: Sat, 08 Oct 2022 5:26 PM (IST)

, : मजबूत तो देश मजबूत। 20 साल नौकरी और फिर सेवानिवृत्ति के बाद वायु सेना का जवान नेत्रपाल बच्चों को शिक्षित और संस्कारवान बना रहे हैं। में बच्चों में अच्छे संस्कारों की हो रही कमी ने उनके अंतर्मन को ऐसा हिलाया कि वह बच्चों को संस्कारवान बनाने में जुट गए। इसके लिए उन्होंने पांच से 15 साल के बच्चाें को चुना। उनका मानना ​​​​ कि इस उम्र के बच्चों को संस्कारी बना दिया जाए तो पूरा समाज ही संस्कारवान हो जाएगा। वह और उनकी टीम नि:शुल्क कर रहे हैं।

बच्चों को संस्कारवान बनाने के लिए उनको समझाया जाता है सुबह घर उठें और इसके बाद स्कूल जाएं तो अपने माता-पिता, दादा-दादी और बड़ों के पैर छू कर निकलें। पहुंच गुरुजनों को चरण वंदन करें। ️ वायु सेना के यह जवान बच्चों को गणित, इंग्लिश, सामान्य ज्ञान और तर्क विचार का ज्ञान भी दे रहे हैं। को उनका लक्ष्य बता कर उसको हासिल करने के गुर भी बता रहे हैं। यह सब करने के लिए वह नियमित रूप से पिछले दो साल से नि:शुल्क क्लास लगाते हैं।

टीम के साथ मिशन में जुटे

वायु सेना के जवान नेत्रपाल अनिल चौहान, रमन सिंह पालुवास, विनोद कुमार चांग आदि के साथ मिल कर बच्चों की नि:शुल्क कक्षाएं लगाते हैं। शहर की जालवाली परस में 15 से 20, गांव पालुवास की धर्मशाला में 80 और चांग में 15 बच्चों की नियमित रूप से नि:शुल्क कक्षा लगाई जा रही है। इन कक्षाओं में अच्छे संस्कार का ज्ञान देने के साथ बच्चों को रीजनिंग, मैथ, जीके और अंग्रेजी की भी तैयारी करवाई जाती है।

See also  Karnataka के अरबी स्कूलों में नहीं हो रहा गाइडलाइन का पालन, शिक्षा मंत्री बोले- पिछड़ रहे यहां के बच्चे

एक राष्ट्रीय सम्मान संस्था बना कर रहे सेवा

नेत्रपाल कहते हैं एयरफोर्स में उन्होंने 20 वर्ष तक सेवा दी। 1996 से 2016 तक वह सेना में रहे। से सार्जेंट के पद से सेवानिवृत्त हैं। में सिंचाई विभाग में क्लर्क के पद पर कार्यरत हूं। वायु सेना से सेवानिवृत्ति के बाद तीन साल पहले उन्होंने जयहिंद एक राष्ट्रीय सम्मान संस्था बनाई। संस्था प्रेरणा स्व. तंवर मिली।

हमारी संस्था सेना में रह देश सेवा करने वालों का जन्मदिन, बलिदान दिवस उनके पैतृक गांव शहर में जाकर मनाती है और परिवार को सम्मानित भी करती है। 15अगस्त और 26 जनवरी को संस्था तिरंगा फहराने का कार्यक्रम करती है। जयंती पर हम हर साल सम्मान समारोह करते हैं।

इसमें अध्यापक , स्कूल के प्रथम और द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले बच्चों और खिलाड़ियों को सम्मानित करते हैं। हमारी टीम का उद्​देश्य है बच्चों की नींव मजबूत करना, उनको संस्कारी बनाना। हमारी टीम से युवा जुड़ रहे हैं और समाज और राष्ट्र को मजबूत बनाने का उनका मिशन जारी रहेगा।

Edited by: Manoj Kumara

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments