Saturday, December 10, 2022
HomeEducationमातृभाषा हिंदी का महत्व बताने बैंक शिक्षा के साथ चिकित्सा के क्षेत्र...

मातृभाषा हिंदी का महत्व बताने बैंक शिक्षा के साथ चिकित्सा के क्षेत्र में शुरू हुई नई पहल लोगों को मिल रही ये सुविधा

Publication date: | Wed, 14 Sep 2022 09:59 (IST)

I Hindi Diwas 2022: हमारी मातृभाषा हिंदी का महत्व बताने अब बैंकों की ओर से भी नई पहल शुरू की गई है। तहत बैंकों से आने वाले संदेश के साथ ही एटीएम में होने वाले लेनदेन भी अब हिंदी में होने लगे हैं। जा रहा है कि बैंकों के हिंदी में मैसेज तो बैंक आफ बड़ौदा के बाद सेन्ट्रल बैंक ने भी शुरू कर दिया है। ही जल्द ही कुछ अन्य बैंक भी शुरू करने की तैयारी में है।

वहीं दूसरी ओर अब एटीएम का लेनदेन भी लोगों की सुविधा का ध्यान रखते हुए मशीन के अंदर ही हिंदी अलग से दे दिया गया है पर ग्राहक हिंदी में ही अपना पूरा लेनदेन कर सकते है। साथ ही मशीन से निकलने वाली पर्ची भी हिंदी में आ रही है। भी इसे काफी पसंद किया जा रहा है। बैंक के अधिकारी व राजभाषा समिति के समन्वयक अनिल चौबे ने बताया कि समिति द्वारा हिंदी को बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाती है। साथ ही अधिकांश कार्य हिंदी में ही करने की कोशिश की जाती है।

भी हिंदी में

में पैसे के लेनदेन में उपयोग की जाने वाली जमा या निकालने वाली पर्ची भी अलग से हिंदी में आने लगी है। इसका उपयोग कर सकते है। साथ ही बैंकोंकी ब्याज दरों व जमा योजनाओं की जानकारी भी हिंदी में चस्पा की जाती है ताकि लोग इसे आसानी से समझ सके।

में लिखते हैं पर्चा ताकि सरलता से समझ सके मरीज

See also  Grand Canyon Education shares drop after court rules against GCU By Investing.com

के क्षेत्र में मातृभाषा हिंदी के विस्तार देने में आयुर्वेद चिकित्सा की बड़ी भूमिका रही है। आयुर्वेद कालेज में इलाज के दौरान दवाओं का पर्चा हिंदी में लिखा जाता है। काफी है। के डा. ने बताया कि हिंदी मातृभाषा होने के साथ हमारा गर्व है। समाज को भावनात्मक रूप से भी जोड़ती है।

आयुर्वेद कालेज समेत राज्य में भी आयुर्वेद चिकित्सक हिंदी में ही पर्चा लिखते हैं। को सरलता से समझाया जा सके। चिकित्सक दवाओं के नाम से लेकर खाने की विधि व अन्य सलाह हिंदी में ही लिखकर मरीजों को देते हैं। को दवाएं लेने में परेशानी नहीं आती। समझ भी विकसित होती है। सरकार द्वारा भी आधुनिक चिकित्सा पद्धति में हिंदी को बढ़ावा देने का प्रयास किया जा रहा है।

रविवि में पीएचडी की सीटें रहती हैं फुल, पीजी में 10 सीटें बढ़ाईं

के सबसे बड़े विश्वविद्यालय में हिंदी साहित्य के प्रति विद्यार्थियों का अच्छा रूझान है। की सभी सीटें हर बार फुल रहती हैं। जिसमें प्रोफेसर के लिए तय आठ, असिस्टेंट के लिए छह और एसोसिएट प्राेफेसर की सभी चार सीटें हमेशा फुल रहती हैं। इस वर्ष एमए की पीजी में सीटें 20 से बढ़ाकर 30 कर दी गई हैं। वहीं, सीजीपीएससी में कई छात्र हिंदी विषय का चयन करते हैं, जिसकी वजह से पीएचडी सहित पीजी की भी सीटों पर प्रवेश लेने वालों की संख्या अच्छी रहती है।

मंडल हर माह कर रहा तीन संगोष्ठी

अलावा हिंदी साहित्य मंडल छत्तीसगढ़ द्वारा भी हिंदी को बचाने के साथ ही इसका ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने पर जोर दिया जा रहा है। हर माह दो से तीन संगोष्ठी का आयोजन किया जाता है। वार्षिक अधिवेशन और वर्कशाप का आयोजन भी किया जाता है।

See also  Nitish Kumar CCD formula playing between RJD and BJP is the third masterstroke Developmet in between corruption-communalism

Posted by: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments