Wednesday, October 5, 2022
HomeEducationभरतपुर में कबाड़ बीनने वाले बच्चों के हाथ में डॉक्टर ने थमा...

भरतपुर में कबाड़ बीनने वाले बच्चों के हाथ में डॉक्टर ने थमा दी कलम, अब जग रही शिक्षा की अलख

/भरतपुर. भरतपुर रहने डॉ. की चर्चा क्षेत्र में खूब हो रही है. डॉ अग्रवाल कबाड़ बीनने वाले बच्चों की बेहतर शिक्षा के लिए कवायद कर रहे हैं. डॉ.वीरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि इस प्रोजेक्ट की शुरुआत 3 साल पहले 2019 में की गई. नगर कॉलोनी के पास स्थित कच्ची बस्ती के बच्चे अपने मां के साथ कबाड़ बिनने का काम करते थे. इस हालत में देख शिक्षित करने का विचार मन में आया और शुरुआत कर दी. तक कुल 276 बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा चुके हैं. में 86 पढ़ है. पहले बच्चों के हाथ में कबाड़ हुआ करता था आज कलम देख अच्छा लगता है.

सुबह 8 से शाम 6 बजे तक संचालित होती है कक्षाएं
डॉ वीरेंद्र अग्रवाल ने आगे बताया इन बच्चों की कक्षाएं सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक संचालित होती है. के दौरान इनको पढ़ाने साथ साथ खेल , गतिविधियां करवाई जाती हैं. अपने समयनुसार बच्चो को पढ़ाते हैं. सहयोग से पाठ्य सामग्री उपलब्ध करवाई जाती है. बच्चों के लिए सुबह शाम की व्यवस्था की है. लोग यहां आकर अपना जन्मदिन मनाते हैं और बच्चों के लिए दिन का भोजन कराने के साथ ही कपड़े एवं पाठ्य सामग्री दान करते हैं.

से 13 साल के बच्चों को किया गया है शामिल
. अग्रवाल ने बताया कि इस प्रोजेक्ट के तहत 3 से 13 साल के बच्चों को किया गया है. प्रोजेक्ट के तहत नि:शुल्क शिक्षा है. बच्चों को भामाशाहों के सहयोग से निजी व सरकारी प्रवेश दिलवाया जाता है. वीरेंद्र अग्रवाल द्वारा चलाई जा रही इस पहल की बच्चों जमकर तारीफ कर रहे हैं. ऐसे परिवारों के लिए एक मिशाल बन चुके हैं.

See also  Up News Ghazipur Demolition Of Dilapidated Government Schools Will Be Re-evaluated Ann

की है
. अग्रवाल ने बताया कि बच्चों के लिए 60 टीशर्ट – पजामा, 100 के आस पास जर्सी, भोजन के लिए दाल, , एवं संस्थान के लिए रोटी मेकर मशीन की आवश्यकता है, जो कोई व्यक्ति इस संस्थान के लिए दान करना चाहता है 9413917821 हेल्प नंबर संपर्क है.

Tags: Bharatpur News, Rajasthan news

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments