Sunday, November 27, 2022
HomeBreaking Newsबेंगलुरु से भी नहीं लिया सबक... रातभर की बारिश ने 'स्मार्ट सिटी'...

बेंगलुरु से भी नहीं लिया सबक… रातभर की बारिश ने ‘स्मार्ट सिटी’ लखनऊ की पोल खोल दी

लखनऊ में शुक्रवार को दिन भर रुक-रुककर हुई बारिश से मौसम सुहाना हो गया। के चलते रात में नींद तो अच्छी आई लेकिन सुबह क्या हालात होंगे इसका अंदाजा नहीं था। ने सोचा नहीं था कि कुछ घंटे की बारिश से हालात ऐसे हो जाएंगे। तो बेड पानी से घिरा था। बच्चों की कॉपी-किताबों से लेकर कपड़े, चार्जर और यहां तक ​​​​ मोबाइल भी पानी भीग गए। हुई बारिश ने ‘स्मार्ट सिटी’ की पोल खोल दी। पॉश कॉलोनियां, क्या छोटी बस्तियां, पानी में सराबोर। जलभराव की समस्या दूसरी तरफ बिजली गुल। घंटे की बारिश ने राजधानी की नींद गायब कर दी। हुए उठकर लोग अपने घरों पानी उलीचते हुए नजर आए।

यहां तक ​​​​कि अधिकारियों को भी नींद तोड़ते हुए रात 3 बजे सड़क पर निकलना पड़ा। कमिश्नर रौशन जैकब भारी बारिश के बीच सड़क पर निकलीं और कमर तक भरे पानी में पैदल चलकर जायजा लिया। इस बीच हजरतगंज के पास दीवार गिरने के दर्दनाक हादसे में 9 लोगों की मौत हो गई। विभाग ने अभी और बारिश होने का अनुमान जताया है। ओर से अलर्ट जारी कर दिया गया है। पर लोग बारिश की तस्वीरें और वीडियो शेयर कर रहे हैं।


पर शिकायतों का अंबार

के दिल हजरतगंज से लेकर गोमतीनगर और इंदिरानगर तक की सड़कें स्वीमिंग पूल बनी हुई हैं। इन सबके बीच कई इलाकों की बिजली भी गुल है, इन्वर्टर ठप है, सबस्टेशन में फोन लाइन बिजी आ रही है। पर शिकायतों का अंबार है। निगम से लेकर बिजली विभाग और प्रशासन पर लोगों का गुस्सा उबल रहा है। सबके बीच सवाल यह है कि क्या वाकई सरकारी मशीनरी ही इन हालातों लिए जिम्मेदार हैं या फिर इतनी भीषण बारिश नहीं हुई जैसा कि लोग दावा कर रहे हैं?

roshan jackob

भी हुई थी ऐसी बारिश
अमौसी स्थित आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, गुरुवार सुबह साढ़े 8 बजे से लेकर शुक्रवार सुबह साढ़े पांच बजे तक 155.2 एमएम बारिश हुई। जबकि बीते साल भी सितंबर महीने में मॉनसून ने जाते-जाते ऐसे ही रुलाया था। जब लखनऊ ने सितंबर में 36 साल बाद ऐसी बारिश देखी थी। कहीं सड़क तालाब नजर आई तो कहीं लोगों के घरों में घुटने तक पानी भरा था। तब 15 से 16 सितंबर को 24 घंटे के अंतराल में 225 मिमी बारिश रेकॉर्ड की गई थी। इससे पहले 14 सितंबर 1985 को 177.1 मिमी बारिश रेकॉर्ड हुई थी।


?

लखनऊ में हर साल बारिश में न सिर्फ सड़कें-गलियां बल्कि मुख्य मार्ग में भी खूब पानी भरता है। पर दोनों तरफ नाले बने हैं लेकिन कब्जे इतने हैं कि पानी निकलने के लिए जगह नहीं। बड़े-बड़े कॉम्प्लेक्स, होटल और अस्पताल बने हैं। चौड़े कच्चे फुटपाथ भी कब्जा कर उसे पक्का कर इतना ऊंचा कर दिया कि पानी सीधे सड़क पर आता है। तेज बारिश में पानी सड़क पर भरा रहता है। के ज्यादातर प्रमुख मार्गों और कॉलोनियों का यही हाल है। बार नगर आयुक्त लोगों से अपील कर चुके हैं कि अवैध कब्जा न किया जाए लेकिन फिर भी लोग हैं कि मानते नहीं।

Lucknow rain

बना दीं इमारतें
इसके अलावा नालों की ठीक से सफाई न होने से जलभराव की शिकायत हो जाती है। सबके लिए नगर निगम पर गुस्सा जाहिर करना ठीक है लेकिन दूसरा पहलू यह भी है कि घरों का कूड़ा पर फेंकते अक्सर लोग भूल जाते हैं कि बाहर की गंदगी एक दिन घरों में घुसेगी ही। जब पानी की निकासी के लिए ही रास्ता नहीं होगा तो पानी गली-मोहल्ले से होता हुआ आशियानों में जाएगा ही।

आधुनिकता और विकास की दौड़ में हमने ऊंची-ऊंची इमारतें खड़ी कर दीं लेकिन जमीनी हकीकत से दूर हो गए। पाटकर बिल्डिंग बनाते समय तमाम स्टडी की गई होंगी लेकिन शायद ही किसी ने तब सोचा होगा कि एक दिन पानी अपने इलाके में वापस आएगा। बेंगलुरु में बारिश से बदतर हालात हम देख चुके हैं, अब वहां अवैध निर्माण गिराए जा रहे हैं। है कि अब यूपी और राजधानी के लोग भी जागेंगे।

See also  bihar news, बीजेपी से जंग में नीतीश ने प्रशांत किशोर से की गुपचुप मीटिंग, PK ने दिनकर की कविता से सरेआम कर दी 'ना बाबा ना...' - prashant kishore answered nitish kumar by rashtrakavi dinkar poem bihar politics

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments