Tuesday, February 7, 2023
HomeBreaking Newsबिहार में शराबबंदी पर नीतीश कुमार को क्यों देना पड़ा बयान?

बिहार में शराबबंदी पर नीतीश कुमार को क्यों देना पड़ा बयान?

  • How does it work?
  • What’s the problem?

Anyway, Manish Shandilya

बिहार शराबबंदी के लागू हुए छह साल से ज़्यादा वक़्त हो चुका है है लेकिन पर बयानबाज़ी बंद नहीं होती होती है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है शराबबंदी कभी पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव बोल हैं हैं तो कभी राम मांझी मांझी का का बयान आता है है. विरोधी पर नीतीश को घ घ घ घ की कोशिश कोशिश हैं जेडीयू जेडीयू के के नेता शराबबंदी की पैरवी पैरवी खड़े मिलते हैं हैं हैं हैं.

रविवार जेडीयू के अधिवेशन अधिवेशन नीतीश कुम कुमार ने कहा कि चाहे कोई कुछ बोले बिहार में शराबबंदी के फ़ैसले पर असर नहीं होगा होगा. नीतीश ने दावा किया कि शराबबंदी शुरू करते समय किसी भी पार्टी ने इसका विरोध नहीं किया था था और इससे इससे कई कईरिवारों की स स ct सुधरी है है.

नीतीश तीख़े शब्दों में शराबबंदी को लेकर विरोधियों पर हमला किया है है. उनका कहना कि कि कुछ लोग लोग शराब पीकर बहुत बड़े आदमी बन बन जाते हैं हैं हैं महिलाओं की मांग पर यह लागू किया किया किया औा और इसका फ़ायदा हुआ है है. ‘

What are the costs of your company?

बिहार में मद्य निषेध विभाग के आंकड़ों के मुताबिक़ शराबबंदी लागू होने यानी यानी 1 अप्रैल 2016 अब तक इस शराबबंदी क़ानून के साढ़े छह लाख़ से ज़्यादा लोगों को किया गया है है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments