Sunday, December 4, 2022
HomeBusinessदुनिया को मैगी और इंस्टेंट कॉफी देने वाली कंपनी की कहानी |...

दुनिया को मैगी और इंस्टेंट कॉफी देने वाली कंपनी की कहानी | The story of the company that gave Maggi and instant coffee to the world

2:

सबसे बड़ी फूड एंड बेवरेज कंपनी। कंपनी जिसने दुनिया को दिया इंस्टेन्ट कॉफी बनाने का फॉर्मूला। वाली जिंदगी को जिसने दी 2 मिनट वाली मैगी। मौजूदा समय में दुनियाभर में 2,000 से अधिक ब्रांड्स के प्रोडक्ट बेचने वाली कंपनी। अक्सर अपने प्रोडक्ट्स को लेकर विवादों में रहने वाली नेस्ले आज अपने कर्मचारियों की वजह से चर्चा में है। भारत में नेस्ले की तीन फैक्ट्रियों के करीब 1,000 कर्मचारियों ने रविवार को काम करने से मना कर दिया है।

मेगा एम्पायर में जानिए ब्रेक के रूप में दुनिया को किट-कैट देने वाली नेस्ले के बारे में…

की नींव एक फार्मासिस्ट ने रखी थी, इस तरह बना मेगा एम्पायर

साल था 1866, जब एक फार्मासिस्ट हेनरी नेस्ले ने एक मिल्क-फूड प्रोडक्शन कंपनी की नींव रखी। उन माताओं के लिए बनाया जो ब्रेस्टफीड नहीं करा सकतीं थी। गाय के दूध, गेहूं और चीनी से बने इस प्रोडक्ट ने नेस्ले को एक त्वरित सफलता दिलाई। ठीक इसी समय एंग्लो-स्विस कंडेंस्ड मिल्क नाम से एक कंपनी मार्केट में आई। तीन अमेरिकी भाइयों ने स्विट्जरलैंड में की थी। करीब दो दशकों तक नेस्ले के साथ कॉम्पीटीशन के बाद, दोनों कंपनियों ने 1905 में विलय कर लिया। और यहां से शुरू हुआ सफर एक मेगा एम्पायर का जो दुनियाभर में अपने मिल्क प्रोडक्ट्स, बोतलबंद पानी और कैंडी बार्स के लिए मशहूर हुआ।

वर्ल्ड वॉर 1 लड़ रही थी, नेस्ले तरक्की की सीढ़ी चढ़ रही थी

नेस्ले ने अपने बिजनेस को विदेशों में फैलाने के लिए साल 1900 में अपना पहला अमेरिकी कारखाना खोला। वर्ल्ड वॉर-1 के दौरान कंपनी को दूध और चॉकलेट के लिए कई सरकारी कॉन्ट्रैक्ट मिले। वॉर के अंत तक, नेस्ले के पास दुनिया भर में 40 कारखाने थे। 1938 ब्राजील में कंपनी के कारखाने ने नेस्कैफे का आविष्कार किया। कॉफी के लिए पहला कमर्शियल प्रोडक्ट बना।

9 oct3 1665241273

के समाधान के रूप में इंस्टेंट कॉफी की खोज हुई

See also  Now, Order Baked Rosogollas From Kolkata, Biryani From Hyderabad On Zomato

के अनुसार, नेस्कैफे नेस्ले का सबसे बड़ा डिवीजन है। 1929 नेस्ले के अध्यक्ष लुई डैपल्स थे, जो एक बैंक के पूर्व कर्मचारी थे। 1929 में कॉफी की कीमतों में गिरावट आई तो नेस्ले अध्यक्ष ने काॅफी को रिसर्व करने का तरीका खोजा। तरीके को खोजने में लगभग चार साल लगे लेकिन नेस्ले केमिस्टों की मदद से आखिरकार कॉफी को पाउडर में बदलने का एक फॉर्मूला लेकर आया। को फिर से हाइड्रेटेड किया जा सकता था। उन्होंने इसे 1938 में स्विट्जरलैंड में नेस्कैफे के नाम से लॉन्च किया और देखते ही देखते 1940 तक नेस्कैफे 29 और देशों में पहुंच गया।

दुनिया को दी पहली मिल्क चॉकलेट

आपको मिल्क चॉकलेट पसंद है तो आपको हेनरी नेस्ले के दोस्त पीटर को धन्यवाद देना चाहिए। आपको लगता है कि मिल्क चॉकलेट हाल की इन्वेन्शन है तो दें कि आप गलत है! 1887 दुनिया को पहली मिल्क चॉकलेट की रेसिपी मिल गई थी। ये रेसिपी किसी और ने नहीं बल्कि हेनरी नेस्ले के पड़ोस में रहने वाले उनके दोस्त पीटर ने बनाई थी। 1901 मिल्क चॉकलेट की इतनी अधिक मांग थी कि पीटर इसे अपने दम पर नहीं बेच पा रहे थे। 1904 पीटर और नेस्ले इस बात पर सहमत हुए कि वे इस चॉकलेट का प्रोडक्शन साथ में करेंगे और नेस्ले कंपनी इसकी मार्केटिंग करेगी। इसलिए इस पहली मिल्क चॉकलेट का नाम “नेस्ले” चॉकलेट रखा गया। चलकर इसी मिल्क चॉकलेट के फॉर्मूले पर किट-कैट और मिल्की बार जैसे चॉकलेट ब्रांड्स बने।

में नेस्ले ने ही मैगी को हर घर के किचन तक पहुंचाया

maggie 411zon 1665241329

इंडिया लिमिटेड ही वो कंपनी है, जो मैगी को 1984 में भारत लाई। 1947 में ब्रांड ‘Maggi’ का स्विट्जरलैंड की कंपनी नेस्ले के साथ विलय हुआ था, जिसके बाद से अब तक मैगी नेस्ले का सबसे फेमस ब्रांड बनी हुई है। नेस्ले इंडिया विज्ञापन पर करीब 100 करोड़ रुपए खर्च करती है, जिसमें मैगी की हिस्सेदारी सबसे ज्यादा है। अस्सी के दशक में जब पहली बार नेस्ले ने मैगी ब्रांड के तहत नूडल्स लॉन्च किए तो वह शुद्ध रूप से उन शहरी लोगों के लिए नाश्ते का विकल्प था, जिनके पास खाने और पकाने का ज्यादा नहीं होता था। धीमे-धीमे बदलती लाइफस्टाइल के साथ खाने की आदतें भी उसी अनुपात में बदल रही थीं। 1991 के बाद आए आर्थिक उदारीकरण के दौर में जब हमारे बाजारों के दरवाजे दुनिया के लिए खुलने लगे तो बदलावों की गति तेज हो गई। भी इसका फायदा मिला। 2 मिनट में तैयार होने वाली मैगी हर किचन की जरूरत बनने लगी।

See also  लगातार 8 दिनों की तेजी पर ब्रेक, सेंसेक्स 416 अंक गिरकर बंद, Paytm 8% बढ़ा, M&M टॉप लूजर

फूड ब्रांड के साथ-साथ नेस्ले हेयर कलर ब्रांड की भी मालिक

निश्चित रूप से आप जानते हैं कि नेस्ले ही नेस्कैफे और नेस्क्विक जैसे प्रोडक्ट्स के पीछे है, यह इनके नाम से बहुत क्लियर है। लेकिन कुछ ब्रांड्स के नाम से इतना क्लियर नहीं हो पाता कि नेस्ले उनका मालिक है। कि नेस्ले ब्यूटी ब्रांड लोरियल के सबसे बड़े शेयरधारकों में से एक है। जिसके पास मेबेलिन, जैसे ब्रांड हैं। मौजूदा समय में लोरियल में नेस्ले की हिस्सेदारी 20 प्रतिशत से भी अधिक है।

नेस्ले का भविष्य : वीगन किट-कैट के साथ वीगनिज्म की ओर बढ़ते कदम

vegan kitkat11zon 1665241397

ही में नेस्ले ने वीगनिज्म के तहत किटकैट वी को लॉन्च किया है। किटकैट का नया शाकाहारी संस्करण मिड जून से यूनाइटेड किंगडम, पोलैंड, एस्टोनिया, और लिथुआनिया के मार्केट में लॉन्च किया गया। जल्द ही ये प्रोडक्ट भारत के साथ-साथ ऑस्ट्रेलिया और ब्राजील के मार्केट में भी लॉन्च होगा। किटकैट वी को चॉकलेट विशेषज्ञों द्वारा यूके में नेस्ले के रिसर्च सेंटर में बनाया गया है।

भी सबसे आगे नेस्ले

खुद माना है कि उसके ज्यादातर प्रोडक्ट सेहतमंद नहीं है। जून 2021 में कंपनी के इंटरनल प्रजेंटेशन के दौरान नेस्ले ने बताया था कि उसके 60 फीसदी से ज्यादा प्रोडक्ट स्वास्थ्य के मानकों को पूरा नहीं करते हैं। सबसे बड़ी फूड कंपनी नेस्ले का विवादों से पुराना रिश्ता है।

  • 1977 भी नेस्ले के प्रोडक्ट को लेकर अमेरिका में काफी बॉयकॉट हुआ था। धीरे-धीरे यूरोप में भी फैल गया।
  • 1990 में पाकिस्तान में भी नेस्ले की मार्केटिंग प्रैक्टिसेज को लेकर कई विरोध हुए।
  • 2007 में नेस्ले पर चॉकलेट प्राइस फिक्सिंग के आरोप लगे।
  • में भी साल 2015 में नेस्ले के पॉपुलर प्रोडक्ट मैगी लेकर काफी बवाल हुआ था।
See also  Sensex And Nifty50 End Lower Amid Choppy Trade Dragged By Auto And Financial Shares

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments