Monday, December 5, 2022
HomeEducationझारखंड में श‍िक्षा की दुर्दशा... एक ही भवन में चल रहे दो...

झारखंड में श‍िक्षा की दुर्दशा… एक ही भवन में चल रहे दो विद्यालय… पढ़‍िए पूरी खबर

: विभाग की लीला व माया सुन आप भी हैरान हो जाएंगे। एक भवन में ही दो विद्यालय, दो प्रधानाचार्य, एक ही वर्ग के दो अलग कक्षाएं, मध्यान्ह भोजन भी दो अलग अलग बनता है। तो यह काफी अटपटा सा है। बिल्कुल है। जी हां ऐसा ही कुछ नजारा धनबाद जिला के झरिया विधानसभा अंतर्गत पाथरडीह क्षेत्र की है। शिक्षा विभाग की लापरवाही की बानगी देखते ही बनती है। राजकीयकृत मध्य विद्यालय सुतुकडीह पाथरडीह के भवन में एक साथ दो मध्य विद्यालय संचालित हो रही है। की तो दूसरा राजकीयकृत मध्य विद्यालय सुदामडीह की। में कक्षा एक से आठ तक की पढ़ाई होती है।

यहां 12 शिक्षकों के स्वीकृति पद में आठ ही शिक्षक हैं। सहायक हैं। , व अंग्रेजी के शिक्षक नही है। में कुल 407 छात्र व आठ कमरों हैं। की हालत काफी जर्जर हैं। कमरों की हालत कुछ ठीक है। कमरों में भी दरारे पड़ गई हैं। विद्यालय के प्रभारी प्रधानाचार्य अर्जुन कुमार शर्मा ने बताया कि फिलहाल पांच कमरों में पढ़ाई कराई जा रही है। कमरों में मध्य विद्यालय सुदामडीह संचालित की जा रही है। की कमी, शौचालय व पानी के कारण दिक्कतें होती है।

सुदामडीह के 178 हैं। शिक्षकों में पांच शिक्षक कार्यरत हैं। सहायक हैं। , अंग्रेजी व हिंदी के शिक्षक नही है। में आठ कक्षाएं संचालित होती है। दो कमरे काफी जर्जर होने के कारण दुर्घटना को आमंत्रण दे रही है। भी बारिश में कमरे के छत से पानी टपकने लगता है। बारिश होने पर मानो कलास रूम तालाब बन जाता है। कमरे में कक्षा एक व दो के 26 छात्र नीचे दरी पर बैठकर पढ़ाई करने को मजबूर हैं। वहीं उक्त कमरे में प्रधानाचार्य कार्यालय, स्कूल के जरूरी कागजात व बच्चों का एमडीएम (भोजन) भी इसी में बनता है।

See also  2022 Asia Cup - All you need to know about the biggest international tournament outside ICC events

बच्चो के बगल में गैस सिलेंडर में भोजन बनने से कभी भी खतरा हो सकता है। व बरामदे की छत कई स्थानों पर आए दिन झड़कर गिर रहे हैं। भी काफी जर्जर है। इसमें कक्षा 3, 4 व 5 के 74 बच्चे पढ़ते हैं। कमरे की हालत कुछ बेहतर है। जहां कक्षा 6, 7 व 8 के 78 बच्चे पढ़ाई करते हैं। यह कलास रूम के साथ भंडार गृह के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। इसमे एमडीएम का अनाज, बच्चो की नई व पुरानी किताबे भी रखी गई हैं। विद्यालय प्रभारी प्रधानाचार्य सुजीत कुमार महतो ने कहा कि स्कूल के सुतुकडीह में आने में काफी दिक्कतें हो रही हैं। कमरों में जैसे तैसे पढ़ाई कराई जा रही है। बना है। पानी की दिक्कत है। पोषक क्षेत्र के बच्चों को काफी दूर आना पड़ रहा है। सुदामडीह मेन कालोनी स्थित पंचायत भवन में स्कूल को शिफ्ट कराने की मांग की गई है।

सुलभ शौचालय की स्थित काफी जर्जर है। 600 स्कूली छात्र छात्राओं के लिए एक शौचालय है। बार में सिर्फ दो छात्र व छात्राएं ही जा सकती हैं। का कारण बन है। को शौचालय के लिए स्कूल से बाहर जाना पड़ता है। विद्यालय के शिक्षक शिक्षिकाओं के लिए भी शौचालय की व्यवस्था तक नहीं है।

विद्यालय की स्थापना साल 1987 हुआ था। में यहां एक से पांच तक कि पढ़ाई होती थी। इसे मध्य विद्यालय कर दिया गया। विभाग ने बिना स्थल का जांच व एनओसी लिए साल 2005 व 2011 में लाखो रुपए खर्च कर अग्नि प्रभावित भू धंसान क्षेत्र में स्कूल का दो मंजिला भवन बना दिया। बीसीसीएल इजे एरिया प्रबंधन ने उक्त क्षेत्र में फायर परियोजना खोल दिया है। कारण बीसीसीएल प्रबंधन ने सुरक्षा दृष्टिकोण से स्कूल प्राचार्य व धनबाद जिला शिक्षा अधीक्षक को पत्र देकर अन्यत्र स्थानांतरण की मांग की थी। के दौरान स्कूल बंद था। खुलने के बाद शिक्षा विभाग ने विद्यालय को सुतुकडीह में शिफ्ट करा दिया।

See also  राष्ट्रीय शिक्षा नीति से जम्मू-कश्मीर में विद्यार्थी परेशान, UG में ऐसे मेजर विषय मिले जिन्हें आज तक पढ़ा नहीं

वर्जन

सुदामडीह विद्यालय अग्नि प्रभावित व भू धंसान क्षेत्र में आने के कारण सुतुकडीह विद्यालय में शिफ्ट किया गया है। भी भवन जर्जर है। की संभावना बनी हुई है। जिला शिक्षा विभाग को पत्र भेजा गया है। के बाद कारवाई की जाएगी।

,

Edited by: Atul Singh

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments