Wednesday, October 5, 2022
HomeEducationजिससे छात्र का शारीरिक व मानसिक विकास हो सके : राज्यपाल मिश्र...

जिससे छात्र का शारीरिक व मानसिक विकास हो सके : राज्यपाल मिश्र | So that the physical and mental development of the student can be done: Governor Mishra

झुंझुनूं18 years old

  • लिंक

सनातन शिक्षा के साथ-साथ खेल को बढ़ावा देना जरूरी

के राज्यपाल कलराज मिश्र बुधवार को एक दिवसीय दौरे पर जिले के मंडावा आए। पर उन्होंने श्रीसनातन धर्म पंचायत सीनियर सैकेंडरी स्कूल के शताब्दी समारोह में शिरकत की। इस दौरान राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि सनातन शिक्षा के साथ-साथ खेल को बढ़ावा देना जरूरी है, जिससे छात्रों का शारीरिक व मानसिक विकास हो सके।

कहा कि व्यक्ति के आत्मविश्वास को जागृत करने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना ही सही शिक्षा है। दौरान उन्होंने कहा कि तुम जैसा सोचोगे, वैसा ही बन जाओगे। उन्होंने शिक्षकों की ओर इशारा करते हुए कहा कि शिक्षकों के द्वारा दी गई शिक्षा उत्कृष्ट हो, जिससे बच्चे का सर्वांगीण विकास हो सके।

राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि अंधकार से प्रकाश की ओर, असत्य से सत्य की ओर, मृत्यु से अमरत्व की ओर ले जाने वाले पथ पर पहुंचने की प्रार्थना भारतीय सनातन धर्म में आरंभ से ही हो

उन्होंने कहा कि “असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय, मृत्योर्मा अमृतं गमय” यह प्रार्थना सनातन धर्म से जुड़े संस्कारों का मूल है। ऐसे सनातन धर्म के मूल्यों पर स्थापित इस विद्यालय में शिक्षा प्राप्त करना अपने आप में गौरव की बात है।

उन्होंने कहा शिक्षा ही है जो व्यक्ति को निरंतर आगे बढ़ाने का कार्य करती है, इसलिए जरूरी है कि शिक्षण संस्थाएं इस तरह के शिक्षा प्रसार में रुचि लें, जिससे विद्यार्थियों को संस्कार के साथ नवाचारों के लिए भी प्रेरणा प्राप्त हो।

उन्होंने बताया कि स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि दुखी, रोने और शर्म करने का कारण निरक्षरता उतना नहीं है जितना अज्ञानता है। राज्यपाल कलराज मिश्र शिक्षा का ध्येय यही होना चाहिए कि वह अज्ञानता का हर दर्द समाप्त करे। अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाए उसी की सार्थकता है। बहुत बड़े स्तर पर समाज में परिवर्तन लाया जा सकता है।

इस दौरान राज्यपाल मिश्रा का ट्रस्टी आत्माराम सौंथलिया के नेतृत्व में शॉल ओढ़ाकर दुपट्टा पहनाकर व साफा पहनाकर सम्मान किया । कार्यक्रम से पूर्व राष्ट्रगान व मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर शुभारंभ किया गया।

बाद समाज व आमजन को शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए अग्रणी रहे आत्माराम सौंथलिया का साफा पहनाकर व प्रशस्ति पत्र देकर मिश्रा ने सम्मान किया। के दौरान राज्यपाल मिश्रा ने शताब्दी पुस्तिका का विमोचन किया तथा अनावरण पट्टिका का लोकार्पण किया। कार्यक्रम में विद्यालय के छात्र करण शर्मा द्वारा मिश्रा की पेंटिंग व विद्यालय की चित्रकारी करने पर सम्मान किया।

कार्यक्रम के दौरान अरुण चूड़ीवाला, ठाकुर रणधीर विक्रम सिंह, सांसद नरेंद्र खीचड़, जिला कलक्टर लक्ष्मण सिंह कुड़ी, एसपी मृदुल कच्छावा, पवन कुमार देवड़ा, अतुल चूड़ी वाल, गिरधारी खेमानी, पवन गोयनका , संजय खेमानी, मनीष गोयनका, व्यवस्थापक अशोक दुग्गड, ओमप्रकाश , किरण सौंथलिया, मनीष गोयनका , कमल देवड़ा सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

See also  New York Lawmakers Call for More Oversight of Hasidic Schools
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments