Saturday, December 3, 2022
HomeEducation'जनसंख्या असंतुलन के गंभीर परिणाम हम भुगत चुके हैं', नागपुर में बोले...

‘जनसंख्या असंतुलन के गंभीर परिणाम हम भुगत चुके हैं’, नागपुर में बोले RSS प्रमुख, कहा- नई शिक्षा नीति से पैदा होनी चाहिए देशभक्ति

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर में दशहरा कार्यक्रम के दौरान कहा कि शक्ति शांति का आधार है. कि दशहरा RSS . के तहत एक विशाल कार्यक्रम किया जाता है. साल कार्यक्रम की मुख्य अतिथि दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत शिखर माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली महिला संतोष यादव हैं. मौके पर आरएसएस प्रमुख ने जनसंख्या असंतुलन से लेकर नई शिक्षा तक कई विषयों पर खुलकर बात की.Read also – RSS विजयदशमी उत्सव : इतिहास में पहली बार मुख्य के तौर पर शामिल हुई एक महिला, संतोष यादव

विजयादशमी उत्सव के मौके पर स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए संघ प्रमुख ने आबादी पर कि जनसंख्या बोझ है, लेकिन ये साधन भी बन सकता है. कहा कि जनसंख्या नियंत्रण के साथ इसका संतुलन भी है, अनदेखी करना भारी पड़ सकता है. कहा कि इसी संतुलन बिगड़ने के कारण इंडोनेशिया ईस्ट तिमोर, से दक्षिण सुडान सर्बिया से कोसोवा नाम से नए देश बन गए. कहा कि जनसंख्या नीति गंभीर मंथन के बाद तैयार की जानी और इसे सभी पर लागू किया जाना चाहिए. शुभ और शांति का आधार है. Read also – शशि थरूर बोले, मुझे गांधी परिवार ने कहा है कि वे पार्टी अध्यक्ष के चुनाव में तटस्थ रहेंगे, कोई ‘आधिकारिक’ उम्मीदवार नहीं

मोहन भागवत ने नारियों की स्थिति पर अपने संबोधन में कहा हम , उन्हें पूजाघर में बंद कर देते हैं ये ठीक नहीं है. के जागरण का कार्यक्रम अपने परिवार से प्रारंभ करना होगा, लेने महिलाओं को भी साबित करना होगा. प्रमुख मोहन भागवत ने नई शिक्षा नीति पर करते हुए कहा कि हर चाहता है कि नयी शिक्षा छात्रों बनाने और उनमें देशभक्ति की पैदा करने में मदद करे. महिलाओं संग समानता पर भी बात की. Also read – Language Thok Ke: मदरसा और मस्जिद विज़िट कर ‘संघ प्रमुख’ का मुस्लिमों को पैगाम, DNA पर डिबेट में भिड़ें दो मौलाना | Watch video

See also  अंतरराष्ट्रीय मंच से धर्मेंद्र प्रधान ने अरविंद केजरीवाल को दिया जवाब, G-20 बैठक में गिनाई नई शिक्षा नीति की उपलब्धि


RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments