Sunday, November 27, 2022
HomeScience/Technologyक्‍या मंगल ग्रह पर बिलकुल पानी नहीं है? नई स्‍टडी ने सामने...

क्‍या मंगल ग्रह पर बिलकुल पानी नहीं है? नई स्‍टडी ने सामने आए ये आंकड़े

वैज्ञानिक वर्षों से मंगल ग्रह का अध्‍ययन करने में जुटे हैं। इस ग्रह पर पानी के बड़े संभावित स्रोत को लेकर है। डेटा से उम्‍मीद कुछ धुंधली होती नजर आती है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (Nasa) के इनसाइट (InSight) मिशन के भूकंपीय आंकड़ों (seismic data) के विश्लेषण से पता चला है कि लाल ग्रह शुष्क है। मिशन का मकसद मंगल के आंतरिक भाग का अध्ययन करना और सतह के नीचे महत्वपूर्ण संकेतों से जुड़ा डेटा इकट्ठा करना है। साल 2018 से मंगल ग्रह की स्‍टडी कर रहा है।

डेटा के विश्‍लेषण के दौरान रिसर्चर्स को इनसाइट के लैंडिंग एरिया के पास मंगल के सबसर्फेस के टॉप 300 मीटर एरिया में बहुत कम या कोई बर्फ नहीं मिली। सर्फेस का गहराई से अध्‍ययन करने पर पता चला कि मंगल ग्रह की क्रस्‍ट काफी कमजोर और छिद्रपूर्ण है। इसके अलावा, तलछट (sediments) अच्छी तरह से सीमेंटेड भी नहीं थे और छिद्रपूर्ण क्रस्‍ट में कोई बर्फ देखने को नहीं मिली।

इस बारे में कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी सैन डिएगो में स्क्रिप्स इंस्टीट्यूशन ऑफ ओशनोग्राफी के जियोफ‍िजिसिस्‍ट वाशन राइट ने कहा कि ये निष्कर्ष इस बात से इंकार नहीं करते कि बर्फ के दाने या छोटे गोले वहां हों जो दूसरे खनिजों को एकसाथ नहीं जोड़ रहे हों। है कि बर्फ के उस में मौजूद होने की कितनी संभावना है? वाशन राइट ने अपने तीन सहयोगियों के साथ आंकड़ों का विश्लेषण किया और जियोफ‍िजिकल रिसर्च लेटर्स में अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए। मंगल ग्रह के बारे में एक और तथ्य का पता लगाया। उनका मानना ​​​​​​था कि मंगल ग्रह के शुरुआती समय में ही महासागरों का ज्‍यादातर पानी मिनिरल्‍स में बदल गया होगा, जिससे अंडरग्राउंड सीमेंट बना।

See also  How artificial intelligence and virtual reality are changing the way children learn

हालांकि स्‍टडी के को-ऑथर ‘माइकल मंगा’ के अनुसार, लैंडर के नीचे के क्षेत्र में सीमेंट कम है। थोड़ा पानी मौजूद है। इसके अलावा, मंगल ग्रह की भूमध्य रेखा के ठंडे तापमान से पता चलता है कि अगर वहां पानी मौजूद होता, तो वह जमने के लिए अनुकूल था। वैज्ञानिक लंबे समय से मानते हैं कि मंगल की सबसर्फेस बर्फ से भरी होगी। ऑब्‍जर्वेशन उस भरोसे का खंडन करते हैं। बावजूद वैज्ञानिकों का दावा है कि उनके मॉडल ने मंगल के ध्रुवों पर बड़ी बर्फ की चादरों और जमी हुई बर्फ की मौजूदगी का संकेत दिया है।

ही में एक और प्रोजेक्‍ट में मंगल ग्रह पर मौजूद सैकड़ों-हजारों रॉक संरचनाओं की मैपिंग की गई है। अनुमान है कि अतीत में इन्‍हीं जगहों पर बड़ी मात्रा में पानी की मौजूदगी रही होगी। मैप को बनाने के लिए दो मार्स ऑर्बिटर के डेटा का इस्‍तेमाल किया गया। यह मैप सभी सवालों के जवाब नहीं देता, पर यह उन जगहों को आउट करता है, जहां पानी के सुराग मिलने के ज्‍यादा चांस हैं। गई जगहें भविष्‍य में मंगल मिशनों के लिए बेहतरीन लैंडिंग साइट की उम्‍मीदवार हो सकती हैं। से कुछ साइट में अभी भी सतह के नीचे बर्फ दबी हो सकती है।

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

ख़बरें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments