Thursday, September 29, 2022
HomeBreaking Newsकौन हैं सफूरा जरगर जिनको निकाले जाने पर जामिया में मचा है...

कौन हैं सफूरा जरगर जिनको निकाले जाने पर जामिया में मचा है बवाल, लग रहे ‘आजादी’ के नारे – Safoora Zargar admission cancelled Jamia University student protest over her expulsion ntc

यूनिवर्सिटी में एमफिल की स्कॉलर जरगर का एडमिशन रद्द कर दिया गया, बाद जामिया कैंपस में सफूरा के पक्ष में नारेबाजी हुई. प्रशासन की ओर से बताया गया है कि समय पर थीसिस नहीं होने की वजह से एडमिशन रद्द किया गया है. ने इसके खिलाफ वाइस चांसलर को चिट्ठी लिखी है. बता दें कि सफूरा जरगर CAA-NRC विरोधी प्रोटेस्ट में शामिल थीं और दिल्ली दंगों की आरोपी हैं.

के पक्ष में जामिया में हुई नारेबाजी के वीडियो सोशल पर वायरल हो रहे हैं. का एडमिशन बीते 26 अगस्त को ही कैंसिल कर दिया गया था. खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी थी. डीन ऑफिस ने 26 अगस्‍त को नोटिस जारी कर उन्‍हें जानकारी दी कि उनका एडमिशन रद्द कर दिया गया. सफूरा जामिया से MPhil की स्‍कॉलर थीं.

के खिलाफ लगा था UAPA

सफूरा पर दिल्ली पुलिस स्पेशल ने दिल्ली दंगों के मामले में UAPA एक्ट लगाया था. की चार्जशीट में स्पेशल सेल ने सफूरा के चैट्स के भी खुलासा था कि वह CAA और NRC के दौरान दंगों को भड़काने की साजिश में शामिल थीं. प्रेगनेंट होने की चलते जमानत दी गई थी.

डीन ऑफिस से जारी किए गए नोटिस में कहा गया है कि प्रोफेसर कुलविंदर कौर के अंडर उनकी MPhil/PhD निम्‍न कारणों से रद्द कर दी गई है-
-उनके सुपरवाइज़र के अनुसार उनकी प्रोग्रेस असंतोषजनक है.
-स्‍कॉलर ने अधिकतम समय सीमा बीत जाने पर अतिरिक्‍त समय के लिए आवेदन नहीं किया.
-स्‍कॉलर ने निर्धारित 5 सेमेस्‍टर और कोरोना के चलते मिले अतिरिक्‍त 6वें सेमेस्‍टर तक अपनी डिजर्टेशन सब्मिट नहीं की.

See also  RBI Monetary Policy Committee Member Says Freebies Are Never Free, Let Voters Know Impact

सफूरा के संबंध में दी गई जानकारी

जरगर को अस्थायी रूप से 2018-19 कार्यक्रम में एम.फिल./पीएचडी में भर्ती कराया गया था. एमफिल 3 सेमेस्टर का पाठ्यक्रम है, लेकिन स्कॉलर्स को एक दो एक्सटेंशन मिल सकते हैं. November 22, 2021 यूजीसी के नोटिफिकेशन के मुताबिक, कोरोना की वजह से रेगुलर प्रोग्राम में 6 महीने का एक्सटेंशन दिया गया.

मिली मानवीय आधार पर छूट

अलावा, महिला स्कॉलर्स के लिए 240 दिनों तक की अवधि में एक बार मैटर्निटी या चाइल्ड केयर लीव मिल सकती है, RAC RAC/DRC की सिफारिश पर VC दे सकता है. CAA-NRC प्रदर्शन में शामिल होने के बाद, सफूरा को तीसरे सेमेस्टर के दौरान 2 दिनों के लिए पुलिस हिरासत मिली थी. उन्हें ज्यूडिशियल कस्टडी में भेजा गया. बाद तीसरे सेमेस्टर के दौरान जमानत पर कर दिया गया. उनकी परिस्थितियों पर विशेष ध्यान दिया. के अंदर भी पठनीय सामग्री भेजी गई. समय-समय पर मानवीय आधार पर छूट भी दी गई.

22 अगस्त को प्रवेश रद्द करने की सिफारिश को मंजूरी

की वजह से एक्सटेंशन के बाद भी उन्हें 6 फरवरी, 2022 तक रिसर्च जमा कराने चाहिए थे, लेकिन नहीं किए गए. December 8, 2022 उन्हें ईमेल के माध्यम से सूचित किया गया था आरएसी उनके प्रवेश को रद्द करने के साथ बढ़ रही है. दो महीने बाद 13 , 2022 मिला. ने इस आवेदन में दावा किया कि उनका रिसर्च वर्क पूरा हो गया वह इसे जमा करने के लिए तैयार थीं. एक और मौका देने के लिए कहा गया. 5 2022 उसकी RAC बैठक ऑनलाइन आयोजित की गई. RAC ने 5 जुलाई को DRC से सफूरा के प्रवेश को रद्द करने की सिफारिश की, उसके बाद 22 अगस्त 2022 को DRC और FOREST ने प्रवेश रद्द करने की सिफारिश को मंजूरी दे दी.

See also  Pune woman forced to bathe under waterfall in front of others to ‘bear children’

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments