Wednesday, October 5, 2022
HomeEducationकेंद्रीय शिक्षा मंत्री का ऐलान, कहा- सैनिकों के पराक्रम को स्‍कूलों के...

केंद्रीय शिक्षा मंत्री का ऐलान, कहा- सैनिकों के पराक्रम को स्‍कूलों के पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा

Edited by Rajesh Kumar,Updated: Aug 12, 2022 20:46

soldiers courage to include in the school curriculum

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने को कहा कि कम से ही करके शिक्षा पिछले सैनिकों की वीरता एवं वीर गाथा को विद्यालय .. .

एजुकेशन डेस्क: केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने शुक्रवार को कहा कि कम आयु से ही ‘राष्ट्र के प्रति दायित्व’ की भावना को प्रबल करने के लिए मंत्रालय से परामर्श करके शिक्षा मंत्रालय पिछले 75 वर्षों के दौरान सैनिकों की वीरता एवं वीर गाथा को विद्यालय और पाठ्यपुस्तकों में शामिल करने के लिये काम करेगा। वीर गाथा’ प्रतियोगिता (सुपर-25) के 25 विजेताओं को सम्मानित करने के बाद प्रधान ने कहा कि भारत के वीरों को सम्मानित करने के लिए ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ से बेहतर कोई उत्सव नहीं हो सकता है।

कहा कि इस प्रतियोगिता ने सबसे रचनात्मक तरीकों से युवा भारत की देशभक्ति और बहादुरों के लिए सम्मान को सामने प्रस्तुत किया है। आश्वासन दिया कि शिक्षा मंत्रालय इस पहल के तहत प्राप्त प्रमाणपत्रों के लिए अकादमिक क्रेडिट देने के उद्देश्य से जल्द ही एक संस्थागत तंत्र विकसित करेगा। प्रधान ने कहा कि कम आयु से ही ‘राष्ट्र के प्रति दायित्व’ की भावना को प्रबल करने के लिए रक्षा मंत्रालय से करके शिक्षा मंत्रालय पिछले की एवं वीर गाथा को विद्यालय के पाठ्यक्रम और पाठ्यपुस्तकों में शामिल करने के लिये करेगा। उन्होंने सैनिकों के सम्मान में प्रतियोगिता का नाम बदलकर ‘सेना सुपर 25’ करने का सुझाव दिया।

इस कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि देशभक्ति की भावना सभी बच्चों में समान है, न कि केवल सुपर और स्थानों से होने के पूरे मन से ‘वीर गाथा’ प्रतियोगिता में भागीदारी की और एक शानदार सफलता दिलाई। मंत्रालय के बयान के अनुसार, 21 अक्टूबर से 20 नवंबर, 2021 की अवधि में आयोजित इस राष्ट्रव्यापी प्रतियोगिता में 4.788 विद्यालयों के 8.04 लाख से अधिक छात्रों को निबंध, कविता, चित्र और मल्टीमीडिया प्रस्तुतियों के माध्यम से प्रेरणादायक कहानियों को साझा करने के लिए था। इस प्रतियोगिता में कई दौर के मूल्यांकन के बाद 25 छात्रों का चयन किया गया और उन्हें ‘सुपर-25’ घोषित किया गया।


See also  India-Australia to set up working group for promoting transnational education
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments