Friday, September 30, 2022
HomeEducationऔरैया में 'महिला और स्वास्थ्य, बच्चा और शिक्षा' थीम पर शुरू हुआ...

औरैया में ‘महिला और स्वास्थ्य, बच्चा और शिक्षा’ थीम पर शुरू हुआ पोषण माह | Nutrition Month started in Auraiya on the theme ‘Women and Health, Child and Education’

औरैया42

  • लिंक

राष्ट्रीय पोषण माह के तहत महिलाओं को जागरूक किया गया।

औरैया में एक सितंबर से चल रहे राष्ट्रीय पोषण माह को इस बार ‘महिला और स्वास्थ्य, बच्चा और शिक्षा पर मुख्य रूप से केंद्रित किया रहा है। माह के तहत गुरुवार को जनपद के हर ब्लाक में पोषण पंचायत का आयोजन किया गया। कार्यकर्ताओं ने पोषण अभियान को लेकर चर्चा की।

पंचायत औतों के ग्राम सचिवालय में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सुमन चतुर्वेदी ने पोषण पंचायत का आयोजन किया। सर्वप्रथम ग्राम प्रधान रजत मिश्रा ने पोषण मटका को स्थापित करके पोषण पंचायत का शुभारंभ किया। सुमन चतुर्वेदी ने बताया कि पोषण मटका बनाने का उद्देश्य पोषण के लिए जागरूकता फैलाना है। बताया की पोषण मटका को तीन लाल, पीला और हरा रंग से रंगा गया और ऊपर सहजन लगाया गया।

राष्ट्रीय पोषण माह के तहत महिलाओं को जागरूक किया गया।

राष्ट्रीय पोषण माह के तहत महिलाओं को जागरूक किया गया।

से रोशन होगा देश
उन्होंने लाल रंग को अतिकुपोषित, पीले को कुपोषित और हरे को सामान्य बताते हुुए कहा कि किसी भी दशा में किसी बच्चे को कुपोषण का शिकार नहीं होना है। होगा तभी देश रोशन होगा। हम पांचवां पोषण माह मना रहे हैं। को जन्म से 6 माह तक केवल स्तनपान करवाएं। 6 माह के पश्चात ऊपरी आहार देना शुरू करें। को सम्पूर्ण तिरंगा भोजन करना चाहिए। करें।

का वितरण वितरण
पोषण पंचायत में कुपोषित महिलाओं, बच्चों के लिये पुष्टाहार विभाग द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजना एवं पोषण अभियान के अन्तर्गत चलाई जा रही योजनाओं की विस्तृत जानकारी एवं लाभ दिलाया गया। मैम श्रेणी में रह चुके बच्चों के अभिभावक उपस्थित हुए। पोषण वाटिका, पौधारोपण एवं कुपोषण के लिये योग एवं आयुष के महत्व से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी दी। स्थानीय खाद्य पदार्थों एवं पौष्टिक भोजन की जन जागरूकता तथा आवश्यकतानुसार अनुपूरक पुष्टाहार आदि का वितरण भी किया गया।

पर किया जाएगा काम
प्रभारी जिला कार्यक्रम अधिकारी वीरेंद्र सिंह ने बताया कि चार बेसिक थीम महिला एवं स्वास्थ्य, बच्चा शिक्षा-पोषण भी पढ़ाई भी, लैंगिंक संवेदनशीलता, जल संरक्षण और प्रबंधन और आदिवासी क्षेत्र में महिलाओं और बच्चों के लिए पारंपरिक खानपान आदि पर काम किया जाएगा। पोषण पंचायत की सदस्यों द्वारा कम वजन के शिशु, अति कुपोषित, कुपोषित और गम्भीर रूप से कम वजन वाले बच्चों के पोषण श्रेणी के स्तर में बदलाव की जानकारी ली जाएगी।

माध्यम से किया जाएगा जागरूक
30 सिंतबर तक चलने वाले पोषण माह के तहत कुपोषण से लड़ने के लिए ग्राम पंचायत, ग्राम विकास, शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग का सहयोग लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस माह चलने वाले पोषण माह में गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं, छह साल से कम उम्र के बच्चों और किशोरियों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। साथ ही उन्हें संवेदीकरण अभियान, आउटरीच कार्यक्रमों और शिविरों के माध्यम से पोषण के महत्व के बारे में जागरूक किया जाएगा।

कार्यशाला आयोजित
संबंधित जिला पंचायती राज अधिकारियों, सीडीपीओ, स्थानीय अधिकारियों द्वारा पंचायत स्तर पर जागरूकता गतिविधियां संचालित की जाएंगी। बार आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों को पढ़ाने के लिए देशी और स्थानीय खिलौनों के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय स्तर की खिलौना निर्माण कार्यशाला भी आयोजित की जाएगी। कार्यक्रम में पंचायत सहायक आदर्श तिवारी आंगनबाड़ी कार्यकत्री रश्मि सहायिका माधुरी सुनीता और आशीष शिवन विजय सिंह धर्मेंद्र ने प्रतिभाग किया।

See also  minister dr sanjay nishad summoned by mp mla court after non bailable warrant from cjm court
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments