Sunday, December 4, 2022
HomeBreaking News'अगर प्रचार के लिए हेलिकॉप्टर दे दिया होता तो...' अखिलेश का नाम...

‘अगर प्रचार के लिए हेलिकॉप्टर दे दिया होता तो…’ अखिलेश का नाम लिए बगैर बहुत कुछ कह गए शिवपाल यादव – Shivpal singh yadav comment on akhilesh yadav over up assembly election defeat in Saifai LCL

UP news: समाजवादी पार्टी गठबंधन की सरकार नहीं बनने पर शिवपाल सिंह का दर्द झलकता नजर आया. उन्होंने नाम लिए बिना भतीजे अखिलेश यादव को सैफई की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार ठहराया. चाचा ने भतीजे पर अप्रत्यक्ष रूप से तंज हुए कहा कुछ लोगों की वजह से गलती हो , वरना हम लोग सरकार में तो क्यों यह दिन देखने पड़ते. लोगों को पता हो गया कि क्यों सरकार नहीं बनी. तो एक ही सीट पर समझौता कर लिया था, भी अगर बना पाए तो हम करें, तो सीटें मांगी थीं, वो भी दी नहीं.

ने आगे कहा, चुनाव में हमने हर मंडल में एक-एक सीट देने की बात कही और एक हेलिकॉप्टर मांगा था. हम सभी से अपील करते तो कम से कम 20-20 हजार वोट हर विधानसभा में बढ़ जाते. विधानसभा में बीस हजार वोट जाता तो सरकार बन जाती.

दरअसल, इटावा में सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी के 600 संविदा कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया है. अपनी बहाली और वेतन की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे इन कर्मचारियों को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सिंह यादव का मिला. यादव अपने पुत्र आदित्य के साथ मंगलवार को सैफई पहुंचे थे.

यादव ने सैफई यूनिवर्सिटी की बदहाली को लेकर मुख्यमंत्री योगी से मिलने की बात कही. संविदाकर्मियों की बात सुनने के बाद यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रभात सिंह से भी बातचीत की. दें कि सैफई पीजीआई में अनिश्चितकालीन हड़ताल और धरना प्रदर्शन करने वालों में संविदा कार्यरत , बॉय और सफाई कर्मी शामिल हैं.

ने यह भी कहा है कि सैनिक कल्याण निगम के सैफई अस्पताल लगे हुए थे. नौकरी करते हुए 15 साल हो चुके हैं. कई अभी भी संविदा पर हैं और इनकी उम्र भी 50 साल की हो चुकी है. प्रशासनिक अधिकारियों ने इनको हटाने का काम है. प्रशासन बेईमान अधिकारियों के हाथ में है.

See also  श्रद्धा मर्डर केस: आफ़ताब का कमरा देखने वालों का लगा तांता, क्राइम सीन का हाल और पड़ोसियों का डर- ग्राउंड रिपोर्ट

मीडिया से बात करते हुए कहा कि प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों की सभी से नौकरी पर रखे जाने की मांग है. सैनिक कल्याण निगम के नियम के अनुसार कर्मचारियों को सभी सुविधाएं जोड़कर लगभग 23 हजार रुपये से ऊपर वेतन मिलता है. अब अब नए टेंडर में 9 हजार रुपये का वेतन मिलेगा और ड्यूटी भी भी 12 घंटे की लेंगे. ने मिलकर गलत तरीके से अपने रिश्तेदारों को नए शामिल कर लिया है.

नहीं

शिवपाल बोले सैफई पीजीआई में पहले 3500 मरीजों की ओपीडी होती थी, लेकिन अब ये 1000 से नीचे आ गई है. दवाइयां नहीं, है. सभी डॉक्टर ने अपने-अपने प्राइवेट अस्पताल खोल लिए हैं, सभी मशीनें खराब पड़ी हैं.

ने बताया कि चिकित्सा मंत्री से मैंने बात की थी प्रमुख सचिव से भी बात की. से बात करने की जरूरत पड़ेगी. लोग पर थे. तो राउंड लेना पड़ेगा 15 दिन में राउंड करेंगे. का सपना और हम लोगों सप को नहीं होने देंगे.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments